Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

Sachin Korla

Tragedy Crime


4.6  

Sachin Korla

Tragedy Crime


"माँ, तूने तो कहा था इंसान बहुत अच्छे हैं...

"माँ, तूने तो कहा था इंसान बहुत अच्छे हैं...

4 mins 12K 4 mins 12K

"माँ, तूने तो कहा था इंसान बहुत अच्छे हैं। फिर इन्होंने हम दोनों को इतनी बेदर्द मौत क्यों दी--

एक हाथी के बच्चे की पुकार जो अभी बाहरी दुनिया में आया भी नहीं था।" 


"माँ! माँ! मैं कब आउंगी बाहर की दुनिया में?

कब देख पाउंगी अपनी आंखों से तुझे?

माँ, तू कहती है ना इंसान इस दुनिया के राजा हैं तो मैं उन्हें कब देख पाउंगी?

माँ! बताओ ना!!"


बेटा! थोड़ा सब्र कर, थोड़ा ठहर जा।

जल्द ही इस दुनिया में तेरे कदम होंगे।

मेरे जिगर के टुकड़े तू जल्द ही मेरी आंखों के सामने होगी।

हाँ और तुझे मैं जल्द ही अच्छे इंसानों से मिलवाऊंगी वो तुम्हें प्यार करेंगे, तुम्हारी भूख मिटायेंगे!


माँ, तूने दो दिन से कुछ नहीं खाया है।

इसी वजह से मुझे भी कुछ खाने को नहीं मिला।

और अब मुझे बहुत जोर से भूख लगी है।

माँ तू कह रही थी ना, इंसान अच्छे होते हैं वो हमे खाना भी देते हैं।

तो माँ जाओ ना उनके पास और जो देंगे वो खा लो ना।


अच्छा बाबा!! चलो इंसानों की बस्ती में चलते

और कुछ खाने को ढूंढते है।


"--- यह बातचीत एक हथनी और उसके बच्चे के बीच की है, वो बच्चा जो अभी इस दुनिया में आया तक नहीं था। खाने की तलाश में हथनी निकल पड़ती है इंसानों की बस्ती की और बड़ी उम्मीदें लेकर।

चलिए फिर क्या हुआ देखते हैं-


बेटा! बेटा! सुन रही हो ना मुझे? मैं पहुंच गयी हूँ इंसानों की बस्ती में,

अब चलो खाना ढूंढती हूँ।

माँ! माँ! इंसान मिले तुम्हें क्या या अभी हमारे सामने दिख रहे हैं?


नहीं बेटा! आजकल इंसान अपने घरों से बहुत कम निकलते है,

वो बेचारे महामारी की मार झेल रहें है, इसी कारण डरें हैं सहमे है।

मेरी प्राथनाएं भगवान से यही हैं की वो इंसानों की पीड़ा हर लें और दुनिया को इस महामारी से मुक्ति दें।


हां माँ! मैं भी भगवान से प्रार्थना करूँगी की मैं जब आऊं दुनिया में तब तक सबकुछ ठीक हो जाए और

ताकि मैं जल्दी-जल्दी इंसानों को देख पाऊँ।


बेटा, अब ज्यादा देर भूखे नहीं रहेंगे हम!

इंसान हमारे खाने के लिए अनानास रख गए हैं।


माँ, तू सच्ची कहती है इंसान बहुत अच्छे होते है।

पर माँ मुझे कुछ अच्छा नहीं लग रहा,

कुछ अनजाना-सा डर लग रहा है।


अरे बेटा। कुछ नही होगा अब तो खाना भी मिल गया।

हम दोनो की भूख अब मिट जायगी।

इंसानों पर मुझे भरोसा है, अच्छा खाना देते हैं।


माँ! माँ! माँ! कहाँ हो तुम?

क्या हो रहा है?

मुझे इतनी जलन क्यों महसूस हो रही?

माँ मेरा दम क्यों घुट रहा है?

माँ, ठीक हो ना तुम?


हहहहह हहहहह हहहहहहह!!!!!

बेटा! बेटा! मेरा मुँह बहुत जल रहा है।

मुझसे सहा नहीं जा रहा।

तू घबरा मत, मैं हूं ना।

तुझे कुछ नही होने दूंगी।

मैं तालाब की तरफ भाग रही हूं।

ताकि इस मुँह में लगी आग से बच सकूँ।


माँ! माँ! यह कैसे हुआ?

क्या था उस अनानास में?

तेरा मुँह कैसे जला?

इंसानों ने क्या किया था उसमे?


बेटा! मैं गलत थी,

तुमसे झूठ बोला,

हर इंसान अच्छा नहीं होता।

बेटा यह इंसानी दुनिया हम जीवों को जीने नहीं देगी।


माँ!! सुन रही हो ना!

तुम ऐसा क्यों कह रही हो।

और मुझे सांस कम आ रही है माँ!

माँ, मुझे घुटन हो रही है!

माँ कहाँ हो तुम?

माँ? माँ? माँ?

माँ, तुझे क्या हो गया?

तू मुझसे अब बात क्यों नही कर रही?

क्या मैं, अब कभी बाहर नहीं आ पाउंगी?

क्या मैं अब कभी तुझे देख नही पाउंगी?

क्या इंसानों को भी नही देख पाउंगी?

माँ! माँ! बोलो ना कुछ।

मुझे सांस नही आ रही।


माँ....... माँ......म...मम............


------"अब हाथी के बच्चे को उसकी माँ कभी जवाब नहीं दे पायगी न ही वो मासूम बेचारी जवाब कर पायगी"

मैं कोई मनगढ़ंत कहानी नहीं कह रहा बल्कि यह इंसानियत पर कलंक लगाने वाली घटना, भारत के सबसे पढ़े लिखे राज्य के साक्षर लोगों ने की है या यूँ कहूँ की पढ़े लिखे जाहिल गवारों ने की है।


आखिर उस मासूम से जीव की ग़लती क्या थी,

यही की वो कुछ मतलबी इंसानों की बस्ती में आस लेकर आई थी?

आख़िर मिल क्या गया उन लोगों को यह करके,

कम से कम उन्हें एक बार यह भी ख्याल नही आया होगा की वो अकेली नहीं उसकी एक औलाद भी है जिसे बाहर की दुनिया का इंतज़ार है?

क्यों इतने भूले-बिसरे फिर रहे हैं लोग,

समझ नहीं आये इतना क्यों गिर रहें हैं लोग।


सोचा था 2020 इंसानों को सबक सिखाएगा,

उनका प्रकृति के प्रति ममतव्य बढ़ाएगा।


पर कुछ इंसानों ने भी यह सिद्ध कर दिया की एक कुत्ते की दुम टेढ़ी कभी सीधी नही हो सकती।

कब समझेंगे ऐसे लोग या यूँ कहूँ की धरती के बोझ।

किस बात का गुरूर है,

देख नही रहे छोटा सा कीटाणु कितने कर रहे इसको चूर हैं।


यह एक साथ कोरोना, साइक्लोन, टिड्डी दल, भूकंप यह सब प्रकृति का हम पर गुस्सा है,

या शायद हम पर आने वाली किसी और बड़ी विपदा का हिस्सा है।

वक्त रहते हमे समझना होगा की इस धरती पर इंसानों का भी उतना ही हक़ है जितना की और जीव जंतुओं का।


Rate this content
Log in

More hindi story from Sachin Korla

Similar hindi story from Tragedy