Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

Wakil Kumar Yadav

Tragedy


2  

Wakil Kumar Yadav

Tragedy


भारत को खतरा किनसे?

भारत को खतरा किनसे?

2 mins 94 2 mins 94

भारत को 4 तरह के समूहों से भयंकर खतरा है और इसी 4 तरह के समूहों से भारत में कई तरह की समस्याएं सामने आई है और आ रही हैं:- 

1. धर्म के ठेकेदारों से 

इस प्रकार का ग्रुप लगभग हर एक धर्मों में सक्रिय हैं।ये ग्रुप कोई भी मुद्दा हो सब भगवान के ऊपर छोड़ देते हैं । यानी जो कुछ हो रहा है वह भगवान की मर्जी से हो रहा है lभगवान इनको बता देते हैं पहले हीl स्पेशल लिफाफे में बंद संदेश इन्हें प्राप्त हो जाता है जिसे अन्य कोई नहीं देखता। तबलीगी मरकट का समारोह, गाय के गोबर का लेप, गोमूत्र का चाय के रूप में सेवन इत्यादि ड्रामा चलते रहता हैl


2 योगा ग्रुप -

 इस तरह के ग्रुप के पास किसी भी प्रकार की महामारी, बीमारी और समस्या का इलाज रहता है। इस ग्रुप के किसी भी सदस्य का जब तबीयत खराब होता है तो सीधे एम्स में जाकर भर्ती हो जाता है, पर टीवी पर आकर हर बीमारी का इलाज करने का दावा जरूर करने लगता है। 


3 जाहिल और गंवार नेता 

इस तरह का ग्रुप भी समय रहते अपनी मूलभूत सुविधाओं को चुस्त और दुरुस्त करने में ध्यान नहीं देता है l वोट मांगने, विधायक, सांसद खरीदने और पृथ्वी का चक्कर लगाने के अलावा कोई काम ही नहीं कर पाता है और संकट की घड़ी में सिर्फ टीवी पर सांत्वना देते हुए नजर आता है। ऐसा शो ऑफ करता है मानो की जनता का सबसे बड़ा हितोसी हो!


सदियों से ऐसा होता चला आया है l बीच में कुछ लोग अच्छे आ आ गए तो आ गएl नही तो अधिकांश लोग चोर ,डकैत, भ्रष्ट और मंदबुद्धि का ही आता रहा हैl


4 भ्रष्ट, चाटुकार और गुलाम मीडिया

लगातार मीडिया भ्रष्टाचार, चाटुकारिता और गुलामी की ओर बढ़ते जा रही है । भारत में मीडिया गिद्ध की तरह हो गई है। जिस प्रकार गिद्ध कई जानवरों के मांस खाने के लिए दूर-दूर तक भटक रहे थे । किसी भी जीव जंतु का मांस खाने में उन्हें मजा आ रहा था उसी प्रकार मीडिया भी मानव रूपी जिओ को खा रही है और आज गीदड़ की प्रजातियां और जातियां ही समाप्त हो गई उसी प्रकार मीडिया का हाल होने वाला है इसका भी अस्तित्व समाप्ति के कगार पर हैl


Rate this content
Log in

More hindi story from Wakil Kumar Yadav

Similar hindi story from Tragedy