Shobhit शोभित

Drama


5.0  

Shobhit शोभित

Drama


बेटी–बहू

बेटी–बहू

1 min 563 1 min 563

हालाँकि कई लोग बोलते हैं कि ज़माना बदल रहा है अब लोग बहू और बेटी में फ़र्क नहीं करते पर ऐसा क्या वाकई हो गया है !

अभी कल की ही बात है एक शादी में जाना हुआ। जैसा कि आम तौर पर भारतीय शादियों में होता है, आगे होने वाली शादियों रिश्तों की बात होने लगी। बात होते होते एक आंटी के बेटे पर गई जिसकी बीवी की मृत्यु एक दो साल पहले हुई थी वो उसके लिए लड़की देख रही थीं और एक दूसरी आंटी से बात कर रही थी, जिनके बेटे की मृत्यु कुछ महीनों पहले हुई थी और उनकी बहू अकेली रह गयी थी।

यहाँ इन दूसरी आंटी का कहना था कि, “बहुओं की भी कहीं शादियाँ की जाती हैं, उसकी शादी कर दी तो आगे जाकर हमारी सेवा कौन करेगा ? बेटे का मामला होता तो जरुर ढूंढते पर अब तो बहू ही सहारा है। उसकी शादी ना बाबा ना !”

इसके ऊपर मैं कुछ कहने में असमर्थ हूँ।


Rate this content
Log in

More hindi story from Shobhit शोभित

Similar hindi story from Drama