Akanksha Gupta

Drama


3.6  

Akanksha Gupta

Drama


अगर

अगर

3 mins 218 3 mins 218

रोज की तरह मनस्वी बस का इंतजार कर रही थी। जैसे ही बस वहाँ आकर रुकी, वह बस में चढ़कर बैठने की जगह तलाशने लगी। उसे एक सीट खाली मिल गई थी लेकिन….……।

उस दिन वह अपने ऑफिस नही पहुंची। ऑफिस में उसकी गैरहाजिरी पर कोई विचार नही किया गया था यह सोचकर कि उसकी तबियत ठीक नही होगी जबकि अगर मनस्वी कभी बीमार पड़ जाती या कोई जरूरी काम आ जाता जिसकी वजह से उसे छुट्टी लेनी होती तो वह ऑफिस में जानकारी देती थी। आज उसने ऐसा नहीं किया। किसी ने यह भी नही सोचा कि उसे कोई परेशानी भी हो सकती हैं या वह किसी मुसीबत में भी हो सकती हैं।

ऑफिस के आठ घंटे खत्म होने के बाद जब मनस्वी डेढ़ घंटे तक घर पर नहीं पहुंची तो उसकी मां पुष्पा को चिंता सताने लगी। उन्होंने कोंपल जो मनस्वी के साथ उसके ऑफिस में काम करती थी और उसकी अच्छी और करीबी दोस्त थी, को फोन किया। 

“हेलो कोंपल। आज ऑफिस में ज्यादा काम है क्या? मनस्वी अभी तक घर नही आई।”

“आंटीजी! यह आप क्या कह रही है? आज तो मनस्वी ऑफिस आयी ही नहीं। हमने सोचा कि उसकी तबीयत ठीक नहीं है या कोई जरूरी काम होगा इसलिए हमने भी डिस्टर्ब नही किया लेकिन अब आप बता रही है कि…….

पुष्पा जी कुछ सोच रही थी, अचानक बोल पड़ी- “सुनो कोंपल। मैं पुलिस स्टेशन जा रही हूँ रिपोर्ट दर्ज कराने के लिए। अभी शाम के सात ही बजे है। उसे ढूंढने में कोई दिक्कत नही होनी चाहिये।”

“जी आंटीजी। मैं भी वही मिलती हूँ आपसे। आप अपना फोन साथ में रखियेगा। ओके आंटीजी। आप चिन्ता मत कीजिए। मनस्वी मिल जाएगी।”

पुष्पा जी पुलिस स्टेशन पंहुचती है जहाँ उन्हें कोंपल मिलती हैं। दोनों पुलिस अधीक्षक को मनस्वी की फोटो दिखाकर मदद मांगते हैं। पुलिस अधीक्षक फोटो देखकर चौक जाते है और फिर उन दोनों को लेकर एक अस्पताल पंहुचते है जहाँ पर मनस्वी एडमिट थी। मनस्वी अभी बेहोश थी। उसे जगह-जगह खरोंचे आई थी। सिर पर गहरी चोट थी जिसकी वजह से मनस्वी इतनी देर तक बेहोश रही।

दरअसल सुबह जब मनस्वी बस में खाली सीट देखकर उस पर बैठने जा रही थी कि तभी दो लड़के पीछे से आये और उसके साथ बदतमीजी करने लगे। जब वह परेशान होकर बाहर जाने लगी तभी एक लड़के ने उसे धक्का दिया और वह लड़खड़ा गई। इससे पहले कि वह अपने को संभाल पाती, बस चल पड़ी। वह चलती बस से नीचे गिर गई। किसी ने ध्यान नहीं दिया। थोड़ी देर बाद कुछ लोगों की भीड़ वहाँ से गुजरी। उन्होंने मनस्वी को अस्पताल पहुंचाया। तब से मनस्वी यहाँ पर थी।

अगर वे दोनों लड़के मनस्वी के साथ दुर्व्यवहार नहीं करते तो ? अगर मनस्वी के ऑफिस वालो ने उसकी गैरहाजिरी की वजह जानने की कोशिश करते तो? अगर लोगों ने मनस्वी के गिरने के बाद बस रोककर उसकी मदद की होती तो ? अगर लोगों की भीड़ ने मनस्वी को अस्पताल नही पंहुचाते तो ?


Rate this content
Log in

More hindi story from Akanksha Gupta

Similar hindi story from Drama