Ayaan Khan

Tragedy


2  

Ayaan Khan

Tragedy


आजादी का पता तब चला जब आज हम कैद हुए

आजादी का पता तब चला जब आज हम कैद हुए

1 min 7 1 min 7

कल कुदरत से हमने खेला 

आज कुदरत हमसे खेल रही है

जिन्हे हम करते थे कैद खुद के शौक के लिए 

आज वो हमसे पूछ रही है 

घबराते क्यूँ हो ये मज़ा तो हमने बरसों से चखा है 

कल कुदरत से हमने खेला 

आज कुदरत हमसे खेल रही है !



Rate this content
Log in

More hindi story from Ayaan Khan

Similar hindi story from Tragedy