Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Mahavir Uttranchali

Abstract


4.9  

Mahavir Uttranchali

Abstract


श्री महावीर हनुमत चालीसा

श्री महावीर हनुमत चालीसा

2 mins 53 2 mins 53

दोहे :

हे हनुमत, हे विश्व गुरु, प्रभु भक्त महावीर
उत्तम फल वाको मिले, जो सुमिरे रघुवीर //1.//

बिसरायें दुष्कर्म को, हम तुच्छ बुद्धिहीन
हे बलधामा भक्त को, न रखिए दीन हीन //2.//

चौपाई :

हे कपीस करुणा की मूरत
सब से न्यारी तेरी सूरत //1.//

भक्त अनोखे तुम रघुवर के
काज किये सब जी भर भर के //2.//

हो बलशाली अंजनी नन्दन
करता यह जग तेरा वन्दन //3.//

हो पवन पुत्र आप अनूठे
आपसे कोई सन्त न रूठे //4.//

युग सहस्त्र योजन की दूरी
पलक झपक कर डाली पूरी //5.//

तेज प्रताप ऐसा निराला
सूरज का कर लिया निवाला //6.//

नाम सुनी सब कांपे बैरी
शनि की दृष्टि न तुमपे ठहरी //7.//

शोभित घुंघराले केशों में
रहें छिपकर साधु वेशों में //8.//

कंचन काया, छवि निर्मल है
हाथों में ज्यों गंगा जल है //9.//

हनुमत का बल बज्र समाना
सम्मुख शत्रु तनिक ना आना //10.//

कांधे उन के सजा जनेऊ
राम लखन-सा करते नेहू //11.//

रामचरित कंठस्त उन्हें है
पल पल प्रभु की याद जिन्हें है //12.//

जो बजरंग बली को जपते
जन्म-जन्म के संकट मिटते //13.//

हनुमत नाम को कम न आंके
भूत पिचाश निकट ना झाँके //14.//

महाबली हो, बाहुबली हो
जग में एक बजरंग बली हो //15.//

ज्ञानी तुम, विज्ञानी तुम हो
राम भक्ति के दानी तुम हो //16.//

उत्तम हर व्यवहार किये हो
रामभक्ति को अर्थ दिये हो //17.//

लघु रूप में सिया ने देखा
मिटी विषाद की तभी रेखा //18.//

बजा हनुमत नाम का डंका
पूँछ जली तो फूंकी लंका //19.//

दुष्ट असुर इक-इक कर तारे
खलनायक रावण के प्यारे //20.//

माता का सन्देशा लाये
राम लखन दोनों हर्षाये //21.//

हे हनुमत तुम प्यारे ऐसे
भाई भरत दुलारे जैसे //22.//

प्रभु सेवक ऐसा ना दूजा
जिसकी सब करते हों पूजा //23.//

भक्तों में है नाम तिहारा
दीन दुःखी का आप सहारा //24.//

दिगपाल करें पल-पल वन्दन
देवी, देव करें अभिनन्दन //25.//

यम, कुबेर हैं भक्त तुम्हारे
ऋषि-मुनि भी आरती उतारे //26.//

राम मिले तो बाली तारा
यूँ सुग्रीवहिं काज सँवारा //27.//

शरणागत को मित्र बनाये
काम प्रभु के विभीषण आये //28.//

जब जीता प्रभु ने भीषण रण
लंकापति बने, प्रिय विभीषण //29.//

हैं प्रसन्न सारे नारी – नर
रामभक्ति में डूबे सब घर //30.//

कठिन सभी के काज सँवारे
राम दया की दृष्टि सहारे //31.//

बल दो हमको हे बलशाली
अर्ज आपसे जाय न टाली //32.//

भक्तों के रक्षक बजरंगी
दुष्टों के भक्षक बजरंगी //33.//

शत्रु आगे टिके ना कोई
इनका तेज सहे ना कोई //34.//

तुमसा नाथ कोई न दूजा
सकल विश्व में तेरी पूजा //35.//

राम भक्तों पे कृपा तेरी
कही न जाये महिमा तेरी //36.//

अष्ट सिद्धि नौ निधि के स्वामी
महाबली तुम, अन्तर्यामी //37.//

हर संकट से आप बचाएँ
भक्तों के सब कष्ट मिटाएँ //38.//

मनचाहे फल सब वो पावें
जो निशदिन हनुमत को ध्यावें //39.//

महावीर कवि, दास तुम्हारा
जन्म-जन्म प्रभु, आप सहारा //40.//

दोहा:

हर लेना संकट सभी, मंगल भक्त स्वरूप
तेरी महिमा क्या कहें, तेरे रूप अनूप

\\ इति  \\



Rate this content
Log in

More hindi poem from Mahavir Uttranchali

Similar hindi poem from Abstract