Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Rati Agarwal

Tragedy


3  

Rati Agarwal

Tragedy


निर्भया

निर्भया

1 min 267 1 min 267

न खेलो मुझसे ऐसे

न देखो मुझे ऐसे

हूँ एक पवित्र आत्मा

न बख्शेगा तुम को

परमात्मा


न बनाओ मुझे अपनी

हवस का शिकार

बनके दुल्हन करना

मुझ को भी श्रृंगार

एक पल भी न आया

अपनी माँ-बहन का ख्याल 

आखिर क्यों किया मेरी

इज़्ज़त को तार तार ??


क्या थी खता मेरी?

क्या था कसूर मेरा ?

बस यही हूँ मैं एक "नारी''

है शायद हर 'निर्भया' की

यही कहानी !!



Rate this content
Log in

More hindi poem from Rati Agarwal

Similar hindi poem from Tragedy