Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Pawanesh Thakurathi

Tragedy

5.0  

Pawanesh Thakurathi

Tragedy

मुन्नी बदनाम नहीं होगी

मुन्नी बदनाम नहीं होगी

1 min
447


प्रातः काल मुन्नी माँ के साथ

जंगल जाएगी

और अपनी पीठ पर 

भरा-पूरा पहाड़ लेकर आयेगी। 


शाम को मुन्नी

खेत में जाएगी

और गाय-बकरियों के लिए

हरी घास खोजेगी। 


तब घर आकर

इजा-बाबू (माता-पिता) के लिए

खाना बनाएगी

उन्हें खिलाएगी

फिर खुद खाकर किताब पढ़ेगी। 


जब मुन्नी का ब्याह होगा

तो वह सास-ससुर की सेवा करेगी। 


यह मुन्नी जीवन भर

गुमनाम भले ही हो

पर बदनाम नहीं होगी

कभी नहीं।। 



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Tragedy