Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Nehha Surana Bhandari

Inspirational


4.7  

Nehha Surana Bhandari

Inspirational


मज़हब

मज़हब

1 min 514 1 min 514

अज़ान की आवाज़ से जब मेरी आँखें

खुलती है

तब माँ की पूजा की घंटी कानों में रस

घोलती है

कहीं मोगरे की अगरबत्तियाँ ख़ुशबू

बिखेरती है

तो कहीं लोबान की महक नज़र

उतारती है


कोई हाथ जोड़े तुझे नमन करे

तो कोई बाँह फैलाये तुझे गले

लगाये

वो सूरज या चाँद में तुझे ढूँढे

पर सबके दिल में तू ही समाये


कहीं दीवाली की रात सा तू रौशन

हो जाए

तो कभी ईद के चाँद सा बादलों में

छिप जाए 

तेरे लिए हरा और मेरे लिए केसरिया

पर दोनो ही रंगों में तू ही तो नज़र आये


मेरे दीये की लौ में तू जगमगाए 

तो कहीं ताबीज बन गले लग जाए

कहीं मोहरम सा तू दिल पिघलाता है

तो कहीं होली सा रंगों में मिल जाता है


ओम् हो या आमीन, कैसे फ़र्क़ करे?

सजदे में तेरे दोनो के ही सर है झुकते 

कोई फूल बरसाए कोई चादर चढ़ाये।।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Nehha Surana Bhandari

Similar hindi poem from Inspirational