Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Suresh Kulkarni

Inspirational

4  

Suresh Kulkarni

Inspirational

मित्र !

मित्र !

1 min
59


सुख पानेका है एकही सूत्र

बनो मित्र बनो मित्र !

सुखदुःख बाँटो गपशप लडाओ

न है टेन्शन कोई यारके साथ


यार है वो है मेरा मित्र !

बनो मित्र बनो मित्र !


नही है कुछ देना

रास है सुख लेना !

न राशी देखनी है

न देखना है गोत्र !


सुख पानेका है एकही सूत्र

बनो मित्र बनो मित्र !


बाते करो खुले दिलसे

दो और लो गाली गलोच

बिगडेना कोई नाजूक सूत्र 

बनो मित्र बनो मित्र !


सुख पाने का है एक ही सूत्र

बनो मित्र बनो मित्र !


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Inspirational