Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Dhwani mange

Abstract

4.6  

Dhwani mange

Abstract

कुदरत

कुदरत

1 min
581


आसमानों मैं धुआँँ बनकर ये बादलों का आना,

बिना तार के न जाने कैसे चमकता है सितारा ,

रंग-बिरंगी फूूलों का नजाने ये कैसा है नज़राना,

ऐ कुदरत ,ये तेेरा केसा है नज़ारा ।


हज़ारों रंगों का मेल है ये कुदरत का खजाना,

जब भी देखू तो बन जाऊ इस प्रकृति का दीवाना,

हवा और पर्वत का ये आपस मे टकराना,

ऐ कुदरत, ये तेरा कैसा है नज़ारा।

 

वो गिली मिट्टी की खुुुशबू से मन का प्रफुलित हो जाना

फिर बरसते हुए मेघों का फेेलता हुआ उजाला ,

उन परिंदों का आकाश मे खुद को मटकाना, 

ऐ कुदरत, ये तेरा कैसा है नज़राना।


ये पानी का बेहना , ये चिड़िया का चहकने,

वो शिखरों का चमकना, वो रेत का सरकना,

ऐ कुदरत ये तेेरा कैसा है चमत्कार?

ये और कुुुछ नहीं ये तो है उस रब का अविशकार।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract