इश्क में इजा़फा

इश्क में इजा़फा

1 min 310 1 min 310

हर सुबह मेरे इश्क में इज़ाफ़ा करती है

कुछ इस तरह तेरी यादें

मेरी रातों को मुक्कमल करती है।


Rate this content
Log in