Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

गीत....नफरत की दीवारें तोड़ें

गीत....नफरत की दीवारें तोड़ें

1 min 433 1 min 433


नफरत की दीवारें तोड़ें ।

इंसां को इंसां से जोड़ें ।।

यकसां खून बनाया सबका,

यकसां जान बनाई है ।

स्वीकारें ये इसमें लोगों ,

सबकी छिपी भलाई है ।।


हमको जन्म मिला यूं प्यारा,

जनजन को दें सदा सहारा ।।

जितने भी प्राणी हैं जग में ,

दर्जा सबसे अलग हमारा ।।

कोई भी हम मजहब माने ।

मानवता के सभी खजाने ।।

कभी किसी में वैरभाव की दिखी नहीं परछाई है।

स्वीकारें ये इसमें लोगों,सबकी छिपी भलाई है।।


प्यार सिखाते हैं सब मजहब,

नफरत किसने सिखलाई कब।

किसने दर्द नहीं समझा है

पैरोंकार दया के हैं सब ।।

पर पीड़ा को कौन बढ़ाता ।

हिंसा से किसका है नाता।।

धरती पे दुख कैसे कम हों सबनेअलख जगाई है।

स्वीकारें ये इसमें लोगोंसबकी छिपी भलाई है ।।


हम मजहब के लिए नहीं हैं,

कहो नहीं क्या बात सही है।

हमें जरूरत मजहब की तो ,

अपने हित के लिए रही है ।।

कैसे जीवन अपना तारें।

दीनों दुनिया यहां संवारे।।

ठेकेदारों के हम मोहरे ,बनें बहुत दुखदायी है। 

स्वीकारे ये इसमें लोगों,सबकी छिपी भलाई है।।  


मनके अलग क माला है,

प्याले अलग एक हाला है ।

"अनंत"रस्ते अलग अलग पर,

मंजिल पर एक रखवाला है।।

जब जैसी थी जहां जरूरत ।

पैगम्बर लाए वो रेहमत।।

रेहबर इंसानों के खातिर ,आए ये सच्चाई है ।

स्वीकारें ये इसमें लोगों,सबकी छिपी भलाई है।।



Rate this content
Log in

More hindi poem from Akhtar Ali Shah

Similar hindi poem from Abstract