Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Deepti Sharma

Abstract


2  

Deepti Sharma

Abstract


दूर से सलाम करते हैं

दूर से सलाम करते हैं

1 min 210 1 min 210

टपकी जब उसकी आंखों से बूंद तो यूँ लगा के,

आज जज्बात बिखर ही जायेंगे !

हैरत मुझे तब हुई जब उसने खुद को संभालकर 

होठों पर झूठी मुस्कान की रोशनी बिखेर दी !


मुमकिन नहीं अब हर वक्त

अल्फाजों को दर्द का सहारा बनाना !

कुछ दर्द अब हम अपनी पलकों में छुपाए रखते हैं ! 

हँसते है जब हम न उम्मीद मौकौं पर,

लोग तब भी हमारी हँसी के कायल रहते हैं ! 


कमजोरी है हमारी उन महफिलों में जाना,

जहां लोग हमारा इंतजार करते हैं ! 

मतलबी और बैगानों की महफिलों को तो हम वैसे ही,

दूर से सलाम करते हैं !


Rate this content
Log in

More hindi poem from Deepti Sharma

Similar hindi poem from Abstract