Read On the Go with our Latest e-Books. Click here
Read On the Go with our Latest e-Books. Click here

Shubham Pandey gagan

Inspirational


3  

Shubham Pandey gagan

Inspirational


चैन ओ अमन

चैन ओ अमन

1 min 353 1 min 353

अब और न जलता हुआ वतन चाहिए

मेरे मुल्क में बस चैन ओ अमन चाहिए


आदमी समझे आदमी को ऐसे जतन चाहिए

मेरे मुल्क में बस चैन ओ अमन चाहिये।


मोहब्बत लिखे प्रेम पढ़े ऐसे अहले ए सुख़न चाहिए

मेरे मुल्क में बस चैन ओ अमन चाहिए।


सब एक हैं एक रहें ऐसे करना हमको कर्म चाहिए

मेरे मुल्क में बस चैन ओ अमन चाहिए।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Shubham Pandey gagan

Similar hindi poem from Inspirational