Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

ज्योति किरण

Romance


5.0  

ज्योति किरण

Romance


बरसात

बरसात

1 min 203 1 min 203

उमड़ घुमड़ कर बरखा आए।

बिजुरी चमके मोहे डराए।। 

रह-रह कर तेरा नाम पुकारूं।

मोहन तुम्हरी बाट निहारूं।। 


छम छमा छम बाजे पायल।

नैन बांवरे दर्श के क़ायल। ।

आ जाओ अब मोहन प्यारे।

दिल की धड़कन तुम्हें पुकारे।। 

       


Rate this content
Log in

More hindi poem from ज्योति किरण

Similar hindi poem from Romance