Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
नन्हीं की गुड़िया
नन्हीं की गुड़िया
★★★★★

© Chitra Rana Raghav

Drama Classics

4 Minutes   13.9K    19


Content Ranking

9 साल की नन्हीं, शहर के सबसे बड़े कारोबारी की पोती थी। नन्हीं के पास दुनिया का हर खिलौना था। अलमारी, बैड, यहाँ तक कि पूरा का पूरा कमरा खिलौनों से भरा हुआ था।

आखिर ऐसा क्या हुआ कि जिन खिलौनों को वो देखती भी नहीं थी, धीरे-धीरे उसके दोस्त बनते चले गए। अपने कमरे में बंद रहना उसकी आदत-सी हो गयी। स्कूल और बाकी समय तो जैसे-तैसे काटती थी, लेकिन सांस तो उसे कमरे के भीतर ही आती। जाने क्या कहानी सुनाई थी उसने अपने गुड्डे-गुड़ियों को कि हर एक की आँखों में आंसू होने का एहसास होने लगा था। जाने क्यों लगता था कि हर गुड्डे की डरावनी-सी शक्ल पहले से थी या बना दी गयी थी। अक्सर सभी गुड़ियां कमरे के एक कोने में एक के ऊपर एक पड़ी होती थी और गुड्डे पूरे कमरे में फैले हुआ करते थे।

जब कभी भी कोई कमरे में सफाई करने आता और गुड़ियों को उठा के सारे खिलौनों के पास रख देता तो उस दिन नन्हीं बहुत रोती। फ़िर धीरे-धीरे गुड़ियां कम होने लगी, और जब आखिर की 2 बची तो सारे नौकरों को बुलाकर चोरी के इलज़ाम में तलब किया गया। लेकिन किसी ने जुर्म नहीं कबूला, सख़्ती करने पर भी कोई नहीं बोला। अंततः दादा जी ने तय किया कि अब तक जो भी नन्हीं के कमरे के पास देखा गया है, दंड उन सबको मिलेगा। यह सुनकर नन्हीं दादा जी की उंगली पकड़ कर एक तरफ ले गई और पापा की तरफ इशारा करते हुए बोली "तो आप इन्हें सज़ा क्यों नहीं देते, इन्होंने भी तो मेरे जैसी कई गुड़ियों को मार डाला है"

नन्हीं की यह बात सुनकर पूरा का पूरा घर स्तब्ध रह गया।

नन्हीं ने आगे कहा कि "मैंने उन गुड़ियों को अपनी उन्हीं बहनों के पास पहुँचा दिया है"

डॉक्टर साहब नन्हीं की बात सुनकर दुखी मन से बोले कि मैं किसी को वापस तो नहीं ला सकता पर अब कभी ऐसा नहीं होगा। सॉरी, बेटा!


भ्रूणहत्या hindi गुड़ियां

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..