Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".
Win cash rewards worth Rs.45,000. Participate in "A Writing Contest with a TWIST".

नूर की मासूमियत

नूर की मासूमियत

3 mins 432 3 mins 432

नूर आज बहुत ख़ुश थी, क्योंकि आज उसका सातवाँ जन्मदिन था, इसलिए आज सुबह ही उसने पूरा घर सर पर उठा रखा था ! वह चाहती थी, कि आज उसका जन्मदिन बहुत ही उल्लास के साथ मनाया जाये ! साथ ही साथ उसे ख़ुशी इस बात की भी थी कि आज उसके अब्बूजान उसके लिए आज नया स्कूल बैग और जूते लाएंगे ! वही हुआ, शाम जैसे ही बाहर रोशनी अधरे में परिवर्तित हुई , वैसे ही घर के अंदर नूर के जन्मदिन पर खूब रोशनी हो गई ,उसके अब्बूजान उसके लिए नए जूते और नया स्कूल बैग लेकर आये थे वह देख कर नूर बहुत ही अधिक खुश हुई , क्योंकि काफी समय बाद पिता जी ने उसकी कोई जिद्द पूरी की थी !

अगली सुबह नूर अपना नया बैग लेकर और नए जूते पहन कर स्कूल गई ,और क्लास में जाकर सारे बच्चों को चिढ़ा रही थी,

"देखों आज तो मैं नया बैग लेकर और नए जूते पहन कर आई हूँ !"

सब बच्चे तो नहीं पर कुछ बच्चे, जो उसके दोस्त थे, वह तो नूर को देखकर खुश थे ,परन्तु कुछ बच्चों को लगता था, कि नूर अपनी नई चीजों का दिखावा ही कर रही है ! छुट्टी का समय हो चूका था , नूर की स्कूल बस अभी रुकी हुई थी, क्योंकि सारे बच्चे अभी बस में नहीं आये थे , इसलिए नूर बस चलने का इंतज़ार करने लगी , वही उसकी निगाह अचानक स्कूल के सामने एक दुकान पर पड़ी , जहाँ स्कूल बैग , वर्दी , जूते मिलते थे , ठीक उसी के सामने एक चाय वाले की दुकान पर बैठे एक छोटी सी बच्ची को देखकर उसे बहुत बुरा लगा , क्योंकि बच्ची के पैरो में जूते फटे हुए , और बैग की जगह उसने किताबें एक थैले डाली हुई थी ,नूर इतनी भावुक हो गई , जितनी आज से पहले कभी नहीं हुई थी , कि वह बस में अपना सारा बैग खाली करके, जूते उतार कर उस बच्ची के पास चली गई, और बड़ी मासूमियत से बोली

" ये लो मेरे बैग, तुम इसमें अपनी सुन्दर किताबें डालना, और ये जूते भी पहनो , कल से तुम अब यह फटे जूते नहीं डालोगी "

इतने में बच्ची कुछ बोलती , बच्ची के पिता जी वहाँ आ गए ,और बोले ;

" नहीं बेटी इसकी जरूरत नहीं है , मैं इसे कुछ दिनों में दिलवा ही दूँगा "

वही नूर ने बड़ी मासूमियत से कहा " अंकल मैंने कल ही लिए है , बिल्कुल भी पुराने नहीं है , आप देख सकते है "

"अरे बिटिया ऐसी बात नहीं है , अगर तुम हमारी बिटिया को अपना बस्ता और जूते दे दो गी , तो तुम क्या इस्तेमाल करोगी ?"

नूर ज़वाब देती है ,"अंकल मेरे पास सब कुछ है, और अभी मेरे पहले वाले जूते और मेरा पहले वाला बैग ठीक है ! "

इतने में बच्ची के पिता कुछ कहते ,

कि नूर बस की तरफ़ आ जाती है , और अंदर आकर बैठ जाती है ! लेक़िन उसको यह पता नहीं था , कि उसको यह सब करते हुए, उसके अब्बूजान ने वहाँ से जाते हुए देख लिया था , और आज उनके मन से सिर्फ़ एक ही आवाज़ आई

"कि आज सही में मेरी बिटिया बड़ी हो गई है !"


Rate this content
Log in

More hindi story from Chandni Sethi Kochar

Similar hindi story from Children