एक फूल दो माली

एक फूल दो माली

8 mins 21.8K 8 mins 21.8K

एक बगीचे की देख रेख करने के लिए एक माली को रखा गया ! ये माली खुशमिज़ाज़ और हंसमुख था ! इस की सबको हसाते हुए ईमानदारी से और पूरी  लगन से काम करने की आदत थी ! जब अन्य लोग सही से काम नहीं करते तो ये उनसे नाराज़  हो जाता  था ! लोगो को अच्छे काम करने की सीख कई लोगो को कड़वी लगती !लेकिन बगीचे के मालिक और उनके नौकर सब इस माली की तारीफ करते थे !

 

पहले माली का काम खाद डालना , दवाई छिड़कना व  कुए से पानी भरकर बगीचे को सीचना था ! कुआ बगीच से थोड़ी  दूरी पर था ! कुछ दिनों के बाद एक दूसरे माली को गुड़ाई के लिए रख लिया गया ! इस बगीचे में एक गुलाब का फूल था जिसे पहला माली उस बगीच का सबसे सुन्दर फूल बनाना चाहता था ! पहला माली चाहता था की उसके बगीचे के फूल सबसे सुन्दर  और अच्छी सुगंध वाले हो जिस से सब उस के बगीचे की तारीफ  करे ! 

गुलाब का फूल, अन्य  फूल व  पूरा बगीच   पहले माली  की बहुत  तारीफ करते थे ! थोड़े ही दिनों में दूसरे माली ने काम चोरी करनी शुरू कर दी और गुलाब के  फूल के पास बैठ कर मीठी मीठी बाते  करनी शुरू कर  दी ! सारा दिन अब ये पहले माली की बुराई करने लगा और अपने को बहुत लायक माली बताने लगा ! लेकिन जब जब गुलाब के फूल ने पहले माली की तारीफ की इस दूसरे माली को बहुत  लगता ! कुछ दिनों के बाद दूसरे माली को इतना बुरा लगने लगा की इसने गुलाब के फूल को भड़काना शुरू कर दिया की यह पहले माली  का काम  कोई जरूरी नहीं है अगर मै गुड़ाई न करू तो तुम ख़राब हो जाओगे और तुम्हारी सुंदरता चली जाएगी ! जब ये बात पहले माली को पता चली तो उसने गुलाब  के फूल को बहुत समझाया की तुम उस दूसरे माली की बात पर ध्यान न दो उसका काम तो सिर्फ गुड़ाई  करना ही है और उसे ज्यादा समझ  नहीं है ! लेकिन  कुछ दिनों बाद दूसरे माली ने गुलाब के फूल को मीठी मीठी बातो में उलझा लिया और एक दिन गुलाब के फूल ने पहले माली से कह दिया की मुझे अब तुम्हारे खाद , दवाई व  पानी की ज़रुरत नहीं है  ! इस लिए तुम अब यहाँ मत आया करो न ही मुझ    से कोई बात किया करो ! पहले माली को ये बात सुन कर अच्छा नहीं लगा क्यों की जिस गुलाब के फूल को वो सबसे अच्छा गुलाब का फूल बनाना चाहता था उसी फूल को गलत फहमी  हो गयी !

कुछ दिनों से  खाद और दवाई न मिलने से  गुलाब के फूल की पत्तियों में कीड़े लग गए और फूल की पंखुड़ियों नीरस लगने लगी ! लेकिन पहले माली ने पानी की सिचाई  जारी रखी   ! दूसरे माली ने पहले माली को हमेशा के लिए बगीचे से हटाने की ठान ली ! अचानक एक दिन दूसरे माली ने पहले माली से कहा  की वो उसे कुआ का ताज़ा पाने  पिला दे ! क्युकी पहला माली दिल का अच्छा था इस लिए वो बिना कुछ सोचे ही कुए की तरफ चल दिया और दूसरा माली भी पीछे पीछे  पहुंच गया ! जैसे ही पहला माली पानी को कुए से खीचने के लिए नीचे झुका उसे दूसरे माली ने कुए में धक्का दे दिया और पहला माली कुए के अंदर गिर गया ! पहला माली कुए में चिल्लाता रहा और पुकारता रहा लेकिन दूसरा माली बिना कुछ सुने  ही वहा से चुपके से चल दिया ! कोई और नौकर पहले माली को कुएं से निकाल ना पाये इस लिए  उसने पानी खीचने वाली रस्सी को भी कुए में नीचे फेक दिया क्युकी उसे मालूम था की बगीचे  में  एक ही रस्सी थी ! कुछ दिनों से पानी ना मिलने से फूल सूखने लगे और वो गुलाब का फूल मुरझा गया ! बगीचे में मुरझाये हुए फूलो को देख कर  मालिक ने अपने दूसरे माली  से पूछा ! दूसरे माली  ने बताया की पहला माली कही दो तीन दिन से काम पे नहीं दिख रहा है ! मालिक ने दूसरे माली से कहा की अब वो ही पानी सीचेगा और खाद , दवाई का छिड़काव करेगा ! दूसरे माली ने बताया की उसे कुए से पानी निकालने क़े लिए रस्सी नहीं मिल रही है इस लिए वो पानी नही सींच पाया ! मालिक ने  नौकरो से  रस्सी ढूढने को कहा और नौकर रस्सी ढूढ़ते हुए  कुए की पास  पहुंच गए ! जैसे ही नौकरो ने कुए में झाका तो उनको पहला माली और रस्सी दिखाई दिए ! नौकरो ने तुरंत ही कपड़ो की रस्सी बना कर पहले माली को  रस्सी सहित  निकाल लिया  ! बाद में होश आने पर पहले माली ने पूरी घटना मालिक को बताई ! मालिक ने तुरंत ही उस दूसरे माली को बगीचे से ही हटा दिया और इस तरह से दूसरा  माली इर्ष्या क़े कारण अपने ही कुचक्र का शिकार हो गया ! गुलाब के फूल को भी अपनी  गलती  का अहसास हो गया!

-- अJAY

एक फूल दो माली

 

एक बगीचे की देख रेख करने के लिए एक माली को रखा गया ! ये माली खुशमिज़ाज़ और हंसमुख था ! इस की सबको हसाते हुए ईमानदारी से और पूरी  लगन से काम करने की आदत थी ! जब अन्य लोग सही से काम नहीं करते तो ये उनसे नाराज़  हो जाता  था ! लोगो को अच्छे काम करने की सीख कई लोगो को कड़वी लगती !लेकिन बगीचे के मालिक और उनके नौकर सब इस माली की तारीफ करते थे !

पहले माली का काम खाद डालना , दवाई छिड़कना व  कुए से पानी भरकर बगीचे को सीचना था ! कुआ बगीच से थोड़ी  दूरी पर था ! कुछ दिनों के बाद एक दूसरे माली को गुड़ाई के लिए रख लिया गया ! इस बगीचे में एक गुलाब का फूल था जिसे पहला माली उस बगीच का सबसे सुन्दर फूल बनाना चाहता था ! पहला माली चाहता था की उसके बगीचे के फूल सबसे सुन्दर  और अच्छी सुगंध वाले हो जिस से सब उस के बगीचे की तारीफ  करे ! 

गुलाब का फूल, अन्य  फूल व  पूरा बगीच   पहले माली  की बहुत  तारीफ करते थे ! थोड़े ही दिनों में दूसरे माली ने काम चोरी करनी शुरू कर दी और गुलाब के  फूल के पास बैठ कर मीठी मीठी बाते  करनी शुरू कर  दी ! सारा दिन अब ये पहले माली की बुराई करने लगा और अपने को बहुत लायक माली बताने लगा ! लेकिन जब जब गुलाब के फूल ने पहले माली की तारीफ की इस दूसरे माली को बहुत  लगता ! कुछ दिनों के बाद दूसरे माली को इतना बुरा लगने लगा की इसने गुलाब के फूल को भड़काना शुरू कर दिया की यह पहले माली  का काम  कोई जरूरी नहीं है अगर मै गुड़ाई न करू तो तुम ख़राब हो जाओगे और तुम्हारी सुंदरता चली जाएगी ! जब ये बात पहले माली को पता चली तो उसने गुलाब  के फूल को बहुत समझाया की तुम उस दूसरे माली की बात पर ध्यान न दो उसका काम तो सिर्फ गुड़ाई  करना ही है और उसे ज्यादा समझ  नहीं है ! लेकिन  कुछ दिनों बाद दूसरे माली ने गुलाब के फूल को मीठी मीठी बातो में उलझा लिया और एक दिन गुलाब के फूल ने पहले माली से कह दिया की मुझे अब तुम्हारे खाद , दवाई व  पानी की ज़रुरत नहीं है  ! इस लिए तुम अब यहाँ मत आया करो न ही मुझ    से कोई बात किया करो ! पहले माली को ये बात सुन कर अच्छा नहीं लगा क्यों की जिस गुलाब के फूल को वो सबसे अच्छा गुलाब का फूल बनाना चाहता था उसी फूल को गलत फहमी  हो गयी !

कुछ दिनों से  खाद और दवाई न मिलने से  गुलाब के फूल की पत्तियों में कीड़े लग गए और फूल की पंखुड़ियों नीरस लगने लगी ! लेकिन पहले माली ने पानी की सिचाई  जारी रखी   ! दूसरे माली ने पहले माली को हमेशा के लिए बगीचे से हटाने की ठान ली ! अचानक एक दिन दूसरे माली ने पहले माली से कहा  की वो उसे कुआ का ताज़ा पाने  पिला दे ! क्युकी पहला माली दिल का अच्छा था इस लिए वो बिना कुछ सोचे ही कुए की तरफ चल दिया और दूसरा माली भी पीछे पीछे  पहुंच गया ! जैसे ही पहला माली पानी को कुए से खीचने के लिए नीचे झुका उसे दूसरे माली ने कुए में धक्का दे दिया और पहला माली कुए के अंदर गिर गया ! पहला माली कुए में चिल्लाता रहा और पुकारता रहा लेकिन दूसरा माली बिना कुछ सुने  ही वहा से चुपके से चल दिया ! कोई और नौकर पहले माली को कुए से निकाल ना पाये इस लिए  उसने पानी खीचने वाली रस्सी को भी कुए में नीचे फेक दिया क्युकी उसे मालूम था की बगीचे  में  एक ही रस्सी थी ! कुछ दिनों से पानी ना मिलने से फूल सूखने लगे और वो गुलाब का फूल मुरझा गया ! बगीचे में मुरझाये हुए फूलो को देख कर  मालिक ने अपने दूसरे माली  से पूछा ! दूसरे माली  ने बताया की पहला माली कही दो तीन दिन से काम पे नहीं दिख रहा है ! मालिक ने दूसरे माली से कहा की अब वो ही पानी सीचेगा और खाद , दवाई का छिड़काव करेगा ! दूसरे माली ने बताया की उसे कुए से पानी निकालने क़े लिए रस्सी नहीं मिल रही है इस लिए वो पानी नही सींच पाया ! मालिक ने  नौकरो से  रस्सी ढूढने को कहा और नौकर रस्सी ढूढ़ते हुए  कुए की पास  पहुंच गए ! जैसे ही नौकरो ने कुए में झाका तो उनको पहला माली और रस्सी दिखाई दिए ! नौकरो ने तुरंत ही कपड़ो की रस्सी बना कर पहले माली को  रस्सी सहित  निकाल लिया  ! बाद में होश आने पर पहले माली ने पूरी घटना मालिक को बताई ! मालिक ने तुरंत ही उस दूसरे माली को बगीचे से ही हटा दिया और इस तरह से दूसरा  माली ईर्स्या क़े कारण अपने ही कुचक्र का शिकार हो गया ! गुलाब के फूल को भी अपनी  गलती  का अहसास हो गया!

-- अJAY

 


Rate this content
Log in

More hindi story from Ajay Sri

Similar hindi story from Inspirational