Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Jyotsna Saxena

Abstract

4  

Jyotsna Saxena

Abstract

स्त्री हूँ मैं

स्त्री हूँ मैं

1 min
185


कभी आकाश बनती हूँ नदी सी मैं थिरकती हूँ

तपी हूँ धूप में भी खूब कंचन सी चमकती हूँ


नुची हैं कोपलें मेरी बनी फिर बोन्साई सी जड़ें भी

कट गई मेरी सजी संवरी सी दिखती हूँ


चली वनवास भूली राजसी वो ठाठ कोमल सी परीक्षा दे के

अग्नि की खरी तब ही उतरती हूँ गुलों से बन गए पत्थर


बदी नेकी सभी भूले डरी सी झांकती

झिर से अहिल्या बन सिसकती हूँ


कभी रत्नावली सीता छला सदियों से

अपनों ने दिया है ताड़ना

अधिकार तुलसीदास रचती हूँ।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract