Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

सबसे बचाकर

सबसे बचाकर

1 min 123 1 min 123

जीवन की सारी,

यादों को तह लगा कर,

रख दिया है,

पुरानी सन्दूकची में

संभाल कर !


फिर निकलेंगी किसी रोज

सफाई में दीवाली पर !

धूप लगा कर

उल्टा तहा कर,

फिर रख दूंगी

सबसे बचा कर !


Rate this content
Log in

More hindi poem from Neelu Bhateja

Similar hindi poem from Abstract