Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

Mrs. Smita Vijay Shinde

Inspirational


4.7  

Mrs. Smita Vijay Shinde

Inspirational


परवरिश

परवरिश

1 min 341 1 min 341

शादी कर वह बंद आंखो से 

आती हे शौहर के घर दौड,

परिवार की लाडली माता पिता समित

अपने सपनो को छोड।


लाख गुना पतीसे होशियार,

बच्चो के लिए घर बैठे आखिर।

अपना भविष्य क्या?जरासी भी आहट उसके मन ना आती।

बच्चा मेरा हैे परम कर्तव्य,यह बात मन को वह समझाती।


घर के काम से मिलते ही फुरसत,

बच्चो पर करे संस्कार।

उसका तो सिर्फ यही लक्ष है,

दे बच्चे के जीवन को योग्य आकार।


बच्चे के कुछ अच्छे बोल सून,

"बच्चे का बाप कौन है"उतरेंगे उसी के गुण !

करे कभी शैतानी अगर, निकले मूहसे अपबोल,

" मां का भी तो है लाडला" उसी के यह सब अवगुण।


मां तो है बुद्धू, अकल की अंधी

वह तो सिर्फ घर के काम की।

पापा दप्तर जाये,पैसा लाये

मजबुरन तेरे साथ वह रह ना पाये।


मां की ममता, त्याग, प्यार कि मूर्ती

यह उपमा सिर्फ दुनिया को दिखावा है।

अंधकार कर मां के उपर, 

सिर्फ पैसा बाप का दिखाया है।


पिता सिर्फ हे तेरा "त्यागी"

यह से बच्चो के मन पिढीयोंसे रूजवाया है।

किसी और के मां बाप ने ही

हररोज यह जहरीला बीज बोया है।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Mrs. Smita Vijay Shinde

Similar hindi poem from Inspirational