Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Neerja Sharma

Abstract

3  

Neerja Sharma

Abstract

मन

मन

1 min
229


मन 

आजकल 

बेचैन हो गया है 

ये करोना का भूत

कब जाएगा हमारे देश से 

यही सोच सोच कर परेशान हो गया ।

अब तो डर गहराने लगा है 

डाक्टर तक जाने से

मन डरने लगा है

बस पोजटिव

न कह दें

कहीं ।

अब तो 

विश्वास भी 

डगमगाने लगा है

एहतियात बरत कर भी 

डर केवल यही लगता है हर पल 

कोई छू न जाए कहीं भी 

क्या पता कहीं वो 

न बाबा न जी 

प्रभु बचाओ

सबको

अब।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract