Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Nisha Nandini Bhartiya

Inspirational


5.0  

Nisha Nandini Bhartiya

Inspirational


मन की झुर्रियाँ

मन की झुर्रियाँ

1 min 346 1 min 346

देखी है कभी किसी ने 

मन पर पड़ी झुर्रियाँ 

यह तो हमेशा 

बचपन ही जीता है 

ढूंढता रहता है 

कच्ची पक्की कक्षा

वाला स्कूल 

कंकड़ उछालते हुए 

स्कूल की चौखट तक

पहुंचना।


पुराने मित्रों को ढूंढ़ते रहना 

उनकी यादों में खोये रहना 

छब्बीस जनवरी और

पंद्रह अगस्त के लिए 

चॉक घिसकर पुराने

जूते चमकाना

तिरंगा तलाशना 

प्रभात फेरी के लिए 

सुबह चार बजे उठ जाना

लाइन में सबसे आगे        

खड़े होने की होड़ में 

मित्रों से झगड़ना 

भारत माता की जय, 

वंदे मातरम् चीख चीख बोलना।


अपने आप को बड़ा लीडर 

मानकर 

छोटी सी दुनिया में खुश रहना  

टीचर के एक इशारे पर

दौड़ दौड़ कर काम करना 

अपने को काबिल समझकर

खुश होना 

टीचर की हर बात जानने की 

कोशिश करना

उनका प्रिय विद्यार्थी बनने की 

जुगत में रहना।


अपने पुराने टूटे फूटे घर का 

बार बार फोटो देखना

अपनी किताबों वाला रैक

रात्रि के तीसरे पहर तक

स्वप्न में देखना 

पुरानी साइकिल पर चढ़कर 

अपने आप को हीरो समझना

पिता के डांटने पर 

माँ के पीछे छिप जाना 

होली, दीवाली, दशहरे के लिए 

उँगलियों पर दिन गिनते रहना


क्यों अपने आप को बूढ़ा कहकर

अपना मज़ाक उड़ाते हो ? 

क्यों अपनी बिंदास हँसी को

ताले में बंद कर मंद-मंद

मुस्काते हो ? 

चेहरे पर नकली मेकअप का

आवरण चढ़ा कर 

क्यों दिखावे की चादर में 

अपने आप को छिपाते हो ? 

चेहरे की झुर्रियाँ तो सुंदरता हैं 

पकी उम्र की 

क्यों अपने मन पर

झुर्रियों को बुलाते हो ?


मनोबल से मन युवा रहता है 

मन के युवा रहने से 

शरीर निरोगी रहता है 

संसार में आनंदानुभूति

निरोगी, युवा और बचपन 

ही कर सकता है। 

देखो मत आईने में            

चेहरे की झुर्रियों को 

हटा सकते हो तो हटा दो

अपने मन पर पड़ी झुर्रियों को। 



Rate this content
Log in

More hindi poem from Nisha Nandini Bhartiya

Similar hindi poem from Inspirational