Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

kalpana sahoo

Romance


2  

kalpana sahoo

Romance


लाल गुलाब

लाल गुलाब

1 min 17 1 min 17

 तुझे छुना था पर

             छू नहीं सकती,

 तेरे साथ रहना था पर

              रह नहीं सकती ।

 तू है एक ख़्वाब पर

             हकीक़त नहीं,

 तुझे एहसास करूँ पर

              तू जरुरत नहीं ।

  तू जहां भी रहे बस

              खिलते रहना,

  तू एक गुलाब है पर

            तुझे तोड़ना मना ।   

  हम तब भी खुश हैं

             तुझे देख कर,

तू पास है नहीं तो क्या हुआ

     तुझे देखती रहूँगी जिंदगी भर ।

  तू है एक गुलाब,

         पर क्या कहे तेरे बारे मे 

      तू है लाजवाब ,

               तू है लाजवाब ।


      




Rate this content
Log in

More hindi poem from kalpana sahoo

Similar hindi poem from Romance