Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
हमारी लाडली
हमारी लाडली
★★★★★

© Ila Varma

Inspirational

2 Minutes   7.1K    18


Content Ranking

चंचल और चपल

नाजुक और कोमल

मनमोहिनी यही हैं

पहचान हमारी लाडली की 

घर आँगन गुलशन गुलशन

रहे इसके आगमन से

फिर भी समाज को नहीं भाती                                                                                            

जन्म हमारी लाडली की

 

भूल जाते हैं लोग

यही है सृष्टि रचने वाली

इसी ने हमें जन्म दिया

और बढाया घऱ संसार 

 

बालपन में बापू के

आँगन की शृंगार

यौवन में इठलाती चली

अपने बालम के द्वार

इक संसार को सुना कर

चली बसाने अपना घऱ संसार

बाबुल ने किया खुशी खुशी

बिदा अपनी लाङली

यही सदियों से चलती आई संस्कार 

सहमी - सहमी

आँखों में हसीऩ सपने लिए

चली सजाने बालम का घर संसार

नया घर नया परिवेश

जोड़ती हर नये रिश्तों को

खुद को अटूट बंधन में 

 

बालम का हर सपना सजा

मनमोहिनी के आगमऩ से

किया न्योछावर खुद को

सराबोर बलमा के प्यार में 

कच्ची कली खिल गई

बलमा के अधिकाऱ में

नया जन्म पाया

ममता से परिपूर्ण

किलकारियों से गूँजी

खिलीं नये सुमन से

बगिया हमारी लाङली की 

 

 

शोख हसीना बन गई माँ

रात भऱ जागती

करती सेवा अपने बगिया की

भूल अपना साज़ शृंगार

भोर होती किलक़ाऱियों से

कब ढल जाता दिन

प्यार दुलार से सिंचती

अपना घर संसार

भूल अपने बाबूल का संसार

जिस घर में पली बड़ी

वही घर हो जाता परदेश 

 

सुबह से शाम तक

घिरनी सी नाचती

बच्चों को सिंचा

ममता की छावों में

आँख़ों में सपने सजाए

अऱमाऩ लिए खुशियों की

लूटा दि ममता ही हर क़ीमत

कर के समस्त न्योछावर

हमारी लाडली

कितने रिश्तों में ख़ुद को पिरोती

बन जीवनसंगिनी और माँ

बहऩ, भाभी और बहू

 

हज़ार कोशिशों के बाद भी

होती कभी अगर भूल

तो सुन लेती दुहाई अपने संस्कारों की

सुख़ दुःख़ हैं जीवन के दो पहलू

यही सोच फुसलाती ख़ुद को

हमारी लाडली

 

इतने त्याग पर भी

क्या वह सम्मान पाती

घर में बड़ों का शासन

बाहर में ज़ालिम संसार

 

लोगों की ऩजर भेदती

चीरती उसकी छाती

नज़ऱों से बचाती अपने यौवन को

हम भी दोहरी ज़िंदगी जीते

घर घर में पूजते लक्ष्मी और दुर्गा

घर की लक्ष्मी को दुतकारते

जिस जऩनी ने हमें जन्म दिया

क़ोख में उसकी हत्या होती

चाह लिए बेटों की


पर क्या हम सज़ा पाएगें

बेटों का घऱ संसार

बिना जन्म हमारी लाडली की

 

 

लाडली घऱ संसार जन्म कोमल सृष्टि संस्कार बालम बंधन रिशतों ममता बाबूल

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..