Sunita Katyal

Inspirational

2  

Sunita Katyal

Inspirational

मन

मन

1 min
256


मैंने आज मन की अपने समीक्षा की पाया पिछले कुछ दिनों से मन मेरा तमोगुण से प्रभावित हुआ सुस्ती आलस्य और भ्रम में डूबा हुआ फिर सोचा माना परिस्थितियां अनुकूल नहीं सब कुछ बंद, रुका और ठहरा हुआ पर क्या सूरज रुका, या रुका चन्द्रमा और क्या रुकी हवा।

मुझे कर्मो को छोड़ना नहीं गति को बनाए रखना है खुद को व्यस्त करना है।

धीरे धीरे परिस्थितियों अनुकूल हो जाएंगी यानि कि रजोगुण को लाना है फिर अपने भोजन और वातावरण से सतो गुण में इस मन को पहुंचाना है यानि खुद को प्रफुल्लित और हल्का फुल्का रखना है।

अपना हौसला बनाए रखना है खुद को विश्वास दिलाना है।

ये कठिन समय कट जाएगा ना रुका है, ना ही रुक पायेगा संसार यू हीं चलता जाएगा। अपने मन में इन तीनों गुणों का समन्वय बैठाना है मनन चिंतन में समय बिताना है।


Rate this content
Log in

Similar hindi story from Inspirational