Travel the path from illness to wellness with Awareness Journey. Grab your copy now!
Travel the path from illness to wellness with Awareness Journey. Grab your copy now!

Shyama Rao

Inspirational

3.8  

Shyama Rao

Inspirational

अजेय

अजेय

3 mins
206


“आप तो बातें करतीं हैं न उस लड़के से, समझाइए न कि अपने धर्म की कोई लड़की ढूँढ ले और खुश रहे l आपकी बात को वो नहीं टालेगाl” मकान मालकिन ने दादी से कहा l दादी ने सर हिला दिया l क्या करती ? आखिर किरायेदार जो थीं l विरोध करें तो खुद पर मुसीबत आ जाती l 

 शिक्षा के नाम पर सिर्फ़ दूसरी कक्षा तक ही तो पढ़ाई हुई दादी की l पढ़तीं भी कैसे ? सात वर्ष की उम्र में ही विवाह हो गया l उन दिनों बालविवाह आम बात थी l पति उम्र में काफ़ी बड़े थे पर सही मायने में संरक्षक थे l उन्हें शेक्सपियर की किताबें पढ़कर सुनाते l खाना बनाना आता नहीं था सो वे स्वयं खाना बनाकर दफ़्तर जाते l 

दादी ने कभी तंगी का रोना नहीं रोया l हालत कैसी भी रही हो , खुश थीं l उन्हें सहगल पसंद था l दादाजी ने एक तस्वीर लाकर दी l दिन-रात साथ में रखतीं l फिर दादाजी को ईर्ष्या होने लगी l पर कुछ न बोलते l उनका बचपना को भी समझते थे l दादी ने भी हर सुख-दुख में खूब साथ दिया l कितना पवित्र था दोनों का प्यार l यही प्यार ही वह कारण था जो वह सबके सामने एक ज़िंदादिल महिला बनीं रहीं l 

बच्चों की मोहल्ले में लड़ाई होती तो तुरंत पहुँच जाती पंचायत करने l मज़ाल थी किसी की जो उनके बेटे-बहू पर ऊँगली उठाए l बहू से उनका अलग ही नाता था l लायब्रेरी की किताबें हों या नई फ़िल्में दोनों की लंबी चर्चा होतीं l रसोई में सब्जी के जल जाने पर ही उनकी चर्चा पर विराम लगता l फिर खाने की मेज़ पर बहू को बच्चों के तानों से बचाने की जिम्मेदारी भी लग जाती l  

घर ही क्या मोहल्ले में भी सबकी दादी थी l इसलिए तो मकान मालकिन अपनी समस्या लेकर आई थीं l उनकी बेटी ने एक मुसलमान लड़के से विवाह कर लिया था l अब दादी क्या करतीं ? दबी आवाज में समझाने का प्रयत्न किया l “आप तो भाग्यशाली हो कि इतना शरीफ दामाद मिला है l आजकल तो ढूँढने पर भी इतना अच्छा बंदा न मिले l”

 “वह तो राजी न होंगे”- अब मकान मालकिन ने अपने पति का हवाला दे दिया l 

उधर बेटी -दामाद भी रास्ते में दादी को पकड़ लिया l बाकायदा पैर छुआ और कहने लगे - “अब आप ही हमारी शादी को बचाइए दादी l हम अलग नहीं हो सकते l पिताजी को मनाइए l” वैसे दादी उनके प्रेम की पींगें बढ़ते देख चुकी थीं, मज़े भी लेती थीं l परंतु अब वह भावुक हो गईं l उन्हें खूब आशीर्वाद दिया l कहने लगीं - जब तक मैं हूँ आपको किसी से डरने की जरूरत नहीं l “हमेशा जहाँ जाओ,साथ में रहना l” सलाह मान ली गई l 

इधर वे मकान मालकिन से कहने लगी - “मैंने तो खूब समझाया दोनों मान ही नहीं रहे l” फिर दादी दोनों पक्षों के बीच संवाद का माध्यम बन गईं l अपनी ओर से दोनों के बीच सामंजस्य बैठाने की पूरी कोशिश में लग गईं l अब बहू भी समझाती कि गैरों के मामलों में न पड़े , घर में भी बेटियाँ हैं l 

खैर, नवजोड़े के परिवार में नया सदस्य आने की खबर से माहौल संभल गया l दोनों पक्षों में मिलाप हो गया और दादी को इसका भरपूर श्रेय मिला l 

उन्हें अशिक्षित कहना तो उचित न होगा l आधुनिक विचारों की थीं l कई भाषाएँ पढ़ लेती थीं l अपने अपाहिज बेटे के लिए चिंतित तो थीं पर कभी जतलाया नहीं l अपने दुख भूलकर दूसरों में खुशियाँ बाँटी और अपना जीवन सार्थक बनाया l अजेय थीं वह l 

 


Rate this content
Log in

More hindi story from Shyama Rao

Similar hindi story from Inspirational