Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Himanshu Vimal

Classics


2  

Himanshu Vimal

Classics


उद्देश्य

उद्देश्य

1 min 201 1 min 201

थक गया तू जिन्दगी में चलते चलते,

ऐ मुसाफ़िर रुक तनिक, आराम कर ले l


क्यो चला है तू बिन उद्देश्य जीवन को समझने ,

बिन उद्देश्य ये जीवन व्यर्थ निरर्थक समझ ले l


सोच जीवन के उद्देश्य को थोड़ा थाम ले

ऐ मुसाफिर रुक तनिक आराम कर ले।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Himanshu Vimal

Similar hindi poem from Classics