Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Dollie Mishra

Abstract

4.1  

Dollie Mishra

Abstract

तिनका और अहंकार

तिनका और अहंकार

1 min
79


आज निकला मैं अपने घर से ,

विधायक की सी चाल लेके ,

ऐंठ रहा था ऐसे जैसे ,

पूरी दुनिया हो मेरी मुट्ठी में ,

तभी एक उड़ता तिनका आया ,

आंख में पड़ा और दर्द दिलाया ,

आंख तो लाल कर ही गया ,

और मैं जोर से पीड़ा से चिल्लाया ,

तभी एक नेक आदमी आया ,

उसे मेरी आंख से निकाला ,

जब पीड़ा कम हुई तब मस्तिष्क ने कहा मुझसे ,

एक छोटा सा साहसी तिनका तो संभाला नहीं जाता है तुझसे ,

अहंकार को छोड़ दे बंधु ,

एक तिनके से तो लड़ना सीख ,

परिश्रम का मार्ग पकड़ले ,

खुद से धोखाधड़ी को छोड़।।



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract