Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF
Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF

Asha Singh Gaur

Inspirational Action Others


1.6  

Asha Singh Gaur

Inspirational Action Others


सरहदें

सरहदें

1 min 21K 1 min 21K

बहुत बूढ़ी हैं ये सरहदें

जबसे होश संभाला है

इन्हें यहीं पर खड़ा पाया है।

सुनसान, वीरानखतरनाक

दूर-दूर तक इनके पास

बस खामोशियों का साया है।

 

जब भी इनपर चहल-पहल होती है

इंसानियत खूब रोती है

बेहती हैं खून की नदियाँ

और ये खामोशी से सोती हैं।

देने के लिए इनके पास कुछ नहीं

फिर भी लाखों मर मिटे इनपर

इनकी हिफाज़त के लिए

जान लुटा गए हँसकर

गूँगी-सी पड़ी हैं फिर भी

अनगिनत कहानियाँ सुनाती हैं

सिसकियों से भरी इनकी हवाएं

हर बार रुला जाती हैं।

 

दोष तो इनका भी नहीं

इन्हें इंसानों ने ही बनाया है

और फिर इन्हें बचाने के लिए

हर ओर पहरा बिठाया है।

गाड़ दिए हैं धरती के सीने में खंबे

काँटों भरी तार से इसे सजाया है

दौड़ा दिया है तेज़ विद्युत् की लहरों को इसमें

बस आग से ही नहीं जलाया है।

अधमरी सी पड़ी है

इनके दर्द को कौन समझ पाया है

जब भी चाल चली दुश्मन ने

जवानो को इनपर

मंदिर में फूलों की तरह चढ़ाया है।

 

बदकिस्मती इनकी

कि ये घटती भी तो नहीं

कितने युद्ध झेल गई

पर मरती भी तो नहीं।

कितना अच्छा होता

जो ये बूढ़ी होती

और फिर मर जाती,

पर उम्र के साथ

ये और मज़बूत हो गई है

पहले देशों के बीच होती थी

अब दिलों के बीच भी खिंच गई हैं।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Asha Singh Gaur

Similar hindi poem from Inspirational