Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here
Independence Day Book Fair - 75% flat discount all physical books and all E-books for free! Use coupon code "FREE75". Click here

अपने-अपने शिव कंठ

अपने-अपने शिव कंठ

2 mins 273 2 mins 273

अजीब सा मौसम है चारों तरफ भ्रम ही भ्रम है

आदमी के अंदर इतना अहंकार और दर्प

कि विष के रूप में रहने लगा है सर्प

यह अचानक जो समंदर काला हुआ है

यह आसमान भी धुआँ धुआँ है


यह वही विष तो नहीं

जो कभी शिव ने पिया था

सोच लिया था

जनमानस के अंतर में बनने वाला

यह नफरत का विष, अगर मैं ही पी लूँ

कंठ में उतार लूँ

तो इंसानी प्रवृत्ति दोष मुक्त हो जाएगी

युगों युगों तक यह धरा धन्य हो जाएगी


चलो समंदर का ही नहीं आसमा का भी

मंथन कर डालें

मन का नहीं आत्मा का भी मंथन कर डालें

जहां कहीं है एकत्रित कर ले इसे

एक और कलश में भर ले इसे

परंतु कौन पिएगा इस विष को

ढूंढ कर लाओ एक शिव कंठ को


तभी एक साहसी साधनहीन सा युवक बोला

लाओ मुझे दे दो यह कलश

मैं बनूंगा शिव, मैं ही धरूंगा इसे

परंतु मेरे पास हिमालय की ऊंचाई नहीं

इतनी कठोरता और सच्चाई नहीं

मैं व्यक्ति हूं भगवान नहीं

साधारण हूं महान नहीं

फिर भी समाज की भलाई के लिए

कुछ भी करने को तैयार हूं

यह विष पीकर मरने को तैयार हूं मैं

नहीं चाहता कि यह यूं ही फैला रहे हैं

और हर व्यक्ति यहां विषधर रहे


तभी उसके विश्वास ने उसका साथ

छोड़ दिया

उसके प्रयासों में उसके साहस को

झकझोर दिया

अकारण यह विष क्यों, तुम शिव तो नहीं

तो शिव होने की कल्पना ही क्यों

यह वही विष है जो, हर आदमी हर

रोज़ पीता है, फिर भी जीता है

कभी पाप का कभी पुण्य का

कभी सच का कभी झूठ का

कभी अपमान का कभी तिरस्कार का

कभी नफरत का कभी अहंकार का

यही सत्य है यही अनंत है

यही उसके जीवन का संघर्ष है


मात्र तुम्हारे पीने से यह कम नहीं होगा

यह बनेगा और भी बनेगा

अपने को कम मत आंको

अपने अंदर के शिव में झांको

रोको इसे अंदर बनने से

रोको इसे बाहर बहने से

यही तुम्हें शक्ति देगा

यही देगा तुम्हें शिव कंठ

अब किसी और को शिव मत बनाओ

अपने अपने हिस्से का सब पी जाओ


Rate this content
Log in

More hindi poem from Bharti gupta

Similar hindi poem from Inspirational