Chetna Arora

Children Comedy Drama


4.8  

Chetna Arora

Children Comedy Drama


हाईटेक बच्चे

हाईटेक बच्चे

4 mins 688 4 mins 688

बच्चे मन के सच्चे, सारी जग की आँख के तारे.......ये गीत जब भी सुनते हैं तो भोले-भाले मासूम से बच्चों के चेहरे याद आ जाते हैं। पर अब जमाना बदल गया है तो बच्चे भी अब भोले-भाले नहीं रहे वो तो बहुत चतुर और चुस्त हो गए हैं। अत्याधुनिक गैजेट्स को तो यूँ इस्तेमाल कर लेते हैं जैसे कि ऊपर वाले से डिग्री ले के आए हों। एक हम थे जब नया मोबाइल लिया था तो डर-डर के इस्तेमाल करते थे कि कहीं ये न हो जाए कहीं वो न हो जाए। आजकल की जेनरेशन के पास हर चीज का जवाब है ,न हो तो गूगल बाबा जिंदाबाद है। मुझे भी कई बार कुछ समझ न आए तो बेटा झट से सलाह दे देता है मम्मा गूगल पर देख लो ना। आजकल के बच्चे हाइटेक होते जा रहे हैं और उनकी बातें उनके जवाब क्या बताएं। मेरा आज का ब्लॉग इन्हीं चंचल और प्यारे बच्चों के बारे में लिख रही हूँ।

शुरुआत अपने नटखट बेटे से करती हूँ। मेरा बेटा 4.5 साल का था। एक दिन मैं उसे स्कूल के लिए तैयार कर रही थी कि उसके दादा जी रूम में आए। बेटे ने उन्हें गुड मॉर्निंग वगैरह विश नहीं किया तो वो बोले, बेटा सुबह उठकर दादू को गुड मॉर्निंग बोलते हैं। तब भी बेटे ने कोई जवाब नहीं दिया। जैसे ही उसके दादू रूम से बाहर जाने को मुड़े तो बेटा शरारती अंदाज में बोला, "दादा जी दूर से ही पाए लागू।" ये सुनकर हम सब हँस- हँस कर लोट पोट हो गए। लेकिन आश्चर्य ये हुआ कि ये शब्द इसने सुने कहाँ से क्योंकि हमारे घर में तो कोई ऐसे बोलता नहीं है। बाद में पता चला कि टीवी में सीरियल में एक कैरेक्टर ऐसे ही बोलता था।

एक दिन मेरा बेटा और भतीजा बहुत देर से टीवी देख रहे थे। बेटा तो मान नहीं रहा था टीवी बंद करने को तो मैंने सोचा भतीजे को समझाती हूँ। मैंने उसे प्यार से समझाया, "बेटा आप अच्छे से पढ़ाई किया करो, टीवी कम देखा करो। फिर आप फर्स्ट आओगे। मैं आपको बढ़िया सा गिफ्ट भी दिलवाऊँगी।" उसे सोच में लगा देख मुझे लगा तीर निशाने पर लगा है। मैं मन ही मन बहुत खुश की चलो एक मान जाएगा तो दूसरा भी मान जाएगा।

उसने कुछ देर सोचने के बाद कहा, "बुआ मैं फर्स्ट तो आऊँगा लेकिन टीवी देखने में।"

उसका जवाब सुनने के बाद मेरा क्या हाल हुआ होगा उसकी कल्पना तो आपने कर ही ली होगी। एक दिन बेटे को समझा रही थी कि बेटा पढ़ोगे नहीं तो आगे कैसे बढ़ोगे। उसका जवाब ये था, "मम्मा सो सिम्पल देखो ऐसे आगे बढ़ते हैं, और चलके दिखाने लगा।"

मेरा भांजा जब लगभग 2.5 साल का था तब नया नया वॉट्स एप्प विडियो कॉल फीचर शुरू हुआ था। मैं अपने फोन का नेट अक्सर बंद रखती थी जब जरूरत होती तभी ऑन करती थी। जैसे ही एक दो बार उससे विडियो कॉलिंग हुई तो उसे तो चस्का लग गया विडियो कॉलिंग का। एक बार उसने कॉल किया तो नेट ऑफ होने के कारण मैं बात नहीं कर पाई तो बहन ने मुझे फोन करके बोला, "नेट ऑन कर विडियो कॉलिंग करेंगे।" फिर तो मैं जब भी वॉट्स एप्प कॉल ना उठाऊँ भांजे की दूसरी कॉल आती और कहता, "नेत ऑन तलो वपपप तॉल तलूंगा।" (नेट ऑन करो वॉट्स एप्प कॉल करूँगा) उसके साथ-साथ हम भी यही बोलने लग गए थे।

एक दिन हम सब भाई-बहन की डोसा खाने की प्लानिंग हुई तो हम लोग जब रेस्टोरेंट में जा रहे थे तो मेरी बहन का 4 साल का बेटा पूरे रास्ते में बोलता गया कि ये तो मेरे स्कूल का रास्ता है। मेरी बस इसी रास्ते से जाती है। डोसा खाते हुए मैंने उसे बोला,"यहाँ का डोसा तो बहुत टेस्टी है अब मेरा जब मन करेगा हार्दिक आप अपनी बस रूकवा कर मेरे लिए डोसा पैक करवा लाना।" उसका जवाब, "मैं तो झूठ बोल रहा था मेरा स्कूल का रास्ता तो कहीं और है।"

एक बार मेरी फ्रेंड रीना और मैं वॉक कर रहे थे तो मेरी फ्रैंड को उनकी एक फ्रैंड मिली जिन्हें मैं नहीं जानती थी। रीना ने अपनी फ्रेंड के 2.5 साल के बेटे को उठा लिया और साथ-साथ वॉक करने लगी। मुझे उनका बेटा बहुत भोला-भाला लगा। अगले दिन जब वही फ्रैंड दुबारा मिली तो जैसे ही रीना उनके बेटे को गोद लेने लगी तो उसने बताया कि ये कल घर जाकर कह रहा था कि मम्मा मुझे उन आंटी को मत दे देना। मैं तो हैरान हो गई ये बोलता भी है और वो भी जबरदस्त।

आजकल सब अपने बच्चों के विडियो वॉट्स एप्प स्टेटस पर लगाते हैं एक दिन मैंने भी बेटे के डांस का एक विडियो लगा दिया। थोड़ी देर बाद देखा तो वहाँ से विडियो हटा दिया गया था। पता चला बेटे ने हटा दिया था। पूछने पर कहने लगा, "मुझे अपनी पब्लिसिटी करना पसंद नहीं है।" मैं उसका जवाब सुनकर सोच में पड़ गयी और महान आत्मा को प्रणाम कर दिया। किस्से तो और भी बहुत हैं धीरे-धीरे शेयर करूँगी। आज के लिए इतना ही काफी है।


Rate this content
Originality
Flow
Language
Cover Design