Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
पथ आंगन में रख कर आई
पथ आंगन में रख कर आई
★★★★★

© Suryakant Tripathi Nirala

Classics

1 Minutes   252    10


Content Ranking

पल्लव - पल्लव पर हरियाली फूटी, लहरी डाली-डाली,

बोली कोयल, कलि की प्याली मधु भरकर तरु पर उफनाई। 

झोंके पुरवाई के लगते, बादल के दल नभ पर भगते,

कितने मन सो-सोकर जगते, नयनों में भावुकता छाई।

लहरें सरसी पर उठ-उठकर गिरती हैं सुन्दर से सुन्दर,

हिलते हैं सुख से इन्दीवर, घाटों पर बढ आई काई।

घर के जन हुये प्रसन्न-वदन, अतिशय सुख से छलके लोचन,

प्रिय की वाणी का अमन्त्रण लेकर जैसे ध्वनि सरसाई।

उत्कृष्ट रचना पथ आँगन में रख आई सूर्यकांत त्रिपाठी निराला

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..