Bhavika Kachhadiya

Inspirational


4.4  

Bhavika Kachhadiya

Inspirational


"दिल की सीधी बात"

"दिल की सीधी बात"

1 min 371 1 min 371

चल आज मैं सीधी बात करती हूं,

आपके होने का शुक्रिया अदा करती हूं,

आज मैं अपने दिल की बात करती हूं.....

आप दीये कि रोशनी की तरह,

मैं तो सिर्फ जरिया हूँ,

आपकी खुशियों की बात करती हूं,

आज मैं सीधी बात करती हूं....


कभी वक़्त में खो जाती हूँ,

अभी से ही माफी मांग लेती हूं,

हर कदम पे आप की फरमाइश मंजूर,

आप है तो खुदा का दर्जा है,

चलो आज दिल की सीधी बात करती हूं....


आप है तो मेरे घर में उजाला है,

हम अजनबी, मिले जब रिश्ता बना,

अपनो से भी ज्यादा कोई अपना मिला,

दोस्त कहो तो दोस्त,

लेकिन आप मिले, खुशियाँ मिली,

तो आज में दिल की सीधी बात करती हूं.....


बातों बातों में कहना भूल गई,

आप आओ कभी भी आओ,

आपके सुख-दुःख में साथ खड़े,

चलो आज आपकी परेशानी की

सीधी बात करते है....


दो मिनिट सिर्फ दो मिनिट,

आपकी ज़िंदगी बदल देंगी,

आपके लिए हमने कुछ नया लाए, चलो

सीधी बात से पैसे की मुनाफे की बात करते है.....


इस दुनिया के कोई भी कोने में ढूंढो,

हम हर वक़्त आपके साथ ,

जहाँ देखो सोना(गोल्ड) वहाँ,

सिर्फ IIFL का नाम सुनो,

वो सीधी बात करते है हम.....



Rate this content
Log in

More hindi poem from Bhavika Kachhadiya

Similar hindi poem from Inspirational