Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Ananya Bhushan

Romance

4  

Ananya Bhushan

Romance

याद है वह दिन

याद है वह दिन

3 mins
81


 वह स्कूल का टाइम था। तुम्हारे बोर्ड एग्जाम थे। वह पहली नजर की मोहब्बत थी। वह सब कुछ कर गुजरने की हसरत थी। नया नया प्यार था। नई नई शुरुआत थी।

 मैं यूं तो हर रोज उठकर तुम्हारा मैसेज चेक करती थी। मैसेज ना मिले तो घबराया जाया करती थी। वह स्कूल के लिए तैयार होते होते तुमसे बात करना पल भर में स्कूल जाने का वक्त हो जाना।

 स्कूल जाकर फिर तुमको सब जगह ढूंढाना। तुम्हारी एक झलक पाने के लिए फिर पूरा स्कूल घूमना।

 मैं ढूंढ कर जब थक जाया करती थी। तो तुम्हारी फिक्र होने लगती थी। तब पता चलता था कि तुम कहीं दूर खड़े अपने दोस्तों के साथ मेरी आंखें तुमको दूर से पहचान लेती थी क्योंकि वह इश्क नया था और हमारी कहानी का स्टार्टिंग प्वाइंट भी था।

 आज भी तुम अपनी टाई भूल गए और मैं अपनी किताब। क्योंकि पता नहीं चलता वक्त कब गुजर जाता है। टाइम टेबल भी बदलना है यह स्कूल आकर पता चलता है।

 रात को दिन भर ऑनलाइन रहना। सुबह होते ही तुम्हें कॉल करना। शेड्यूल कुछ ऐसा था एक हाथ में मोबाइल फोन था। बातों बातों में नाश्ता करना भी भूल जाया करती थी

 स्कूल जाने में कहीं देर ना हो जाए। तुम्हें देखे बिना चैन कहीं नहीं पाती थी। तुम्हारे चेहरे की मुस्कुराहट देखकर मैं खयालों में खो जाती थी।

 तुम्हारी हंसी मेरे दिल का चैन चुरा लेती थी धीरे-धीरे वक्त बदलता गया 1 महीने से पांचवा महीना हो गया।

 अब भी वही रूटीन था तुमको ना देखूं तो सारा टाइम बोरिंग था।

अब रिश्ते में रोमांस होने लग गया था। एक रात जब मैंने उससे पूछा कि मैं तुम्हें कितनी कैसी लगती हूं। मैंने जवाब दिया तुम मुझे मेरे प्यार में दीवानी से लगते हो। धीरे-धीरे वकत बदल एक दूसरे से नजदीकियां बढ़ती है।

मैंने कहा कि आज तुम जितनी तारीफ कर दो उसने कहा तारीफ जितनी करो उतनी कम है। तुम्हारी खूबसूरत आंखों में डूब जाने का मन है। तुम्हें अपने सीने से लगा कर जुमने का बहुत मन है। तुम्हारी नाक पर जो गुस्सा है उसे खत्म करने का मन है। तुम्हें अपनी बाहों में जकड़ कर कुछ बेशर्मिया करने का बहुत मन है। तुम्हें कसकर अपनी गोद में सर रखकर तुम्हारी बालों को सहलाने का मन है। तुम मेरे बाहों में आकर अपना हर गम भूल जाओ और मेरी हो जाओ तुम्हारे लिए सब कुछ कर गुजरने का दम है।

फिर वह दिन आया जब हम मिले हैं। मेरे हाथों से उसके हाथ मिले। 

वह हाइट में थोड़ा लंबा था उसका वह गिफ्ट आज भी मेरे दिल के बहुत करीब है।

वह रेड कलर की शर्ट थी और ब्लैक कलर की पेंट आज भी उतना ही क्यूट लग रहा था। जितना हर वक्त लगता है।

 हम सुनसान सड़क में मिले थे जहां कोई हमें ना मिले। ऐसी जगह मिले थे जहां पर परिदे भी ना मिले वह धीरे से पास आया मैंने और मेरे होंठों को चूमने लगा।

और में इतनी गरीबी की हवा भी हमारे बीच में आए। हम दोनों की आंखों में आंखें इस कदर मिली थी कि चांद भी शरमा जाए।

 उसने कहा तुम अपनी जुल्फों को बांध खुला छोड़ दो उसे खुला देख कर मुझे उनसे पीछे करने का मौका मिल जाता है। तुम जितना दूर भागो फिर तुम्हें करीब आने का मौका मिल जाता है।

वह मुलाकात वह मुलाकात आज भी मेरी रगों में जिंदा है। हर रोज जब उठती हूं मानो आज ही हो मेरे दिल के ख्यालों में उड़ता हुआ परिंदा है।

आज हमारी रिलेशनशिप को 8 साल गुजर गए। वक्त बस पुराना है पर मुलाकात हर रोज में लगती है।हम आज भी perfect कपल हैं हर रिलेशनशिप अनसक्सेसफुल हो यह जरूरी नहीं। प्यार अगर सच्चा हो तो सचमुच रिलेशनशिप अनसक्सेसफुल होने की गारंटी है थैंक यू।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Romance