Participate in 31 Days : 31 Writing Prompts Season 3 contest and win a chance to get your ebook published
Participate in 31 Days : 31 Writing Prompts Season 3 contest and win a chance to get your ebook published

Ekta Gupta

Abstract


4  

Ekta Gupta

Abstract


रंगबरसे, खुशियों की फुहार

रंगबरसे, खुशियों की फुहार

1 min 184 1 min 184


खुशियों की फुहार बरसी है फिर इस अंगना ,

भींग जाना ना अब कोई बहाना ।

राजा - रंक का भेद भुला...

अबीर होली, होली के साथ।

 भांग का रंग चढ़ा दूर हुए गिले-शिकवे ,

अब ना कोई दूरी थी , ना कोई मजबूरी थी ।

आई खुशियों की फुहार फिर मेरे अंगना,

भीग जाना ना अब कोई बहाना।

 बरसा ऐसे सारा रंग...

 पुलकित हुआ हर अंग -अंग ।

गले लगा किया तिलक ,

जो ना बरसों में कर पाया,

कर दिखाया ये चुटकी भर रंग।

 रंग का ऐसा रंग चढ़ा,

 हुए दूर गिले-शिकवे ,

आई फिर खुशियों की फुहार मेरे अंगना ,

भीग जाना ना अब कोई बहाना।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Ekta Gupta

Similar hindi poem from Abstract