Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Kk Khatri

Inspirational


2  

Kk Khatri

Inspirational


देश की मिट्टी !

देश की मिट्टी !

1 min 0 1 min 0

ख्वाबों और ख्वाहिशों का 

समंदर लिए हथेली पर

फिरते हैं हम यहां-वहां

अपने देश की ख़ातिर

जो है हमारी आन-बान-शान

जिस मिट्टी का खाते हैं अन्न

वो मिट्टी है इस देश के -

भक्तों की 

वीर जवानों की

स्वतंत्रता सेनानियों की 

वीर माताओं की 

गौतम बुद्ध 

और 

राम-कृष्ण की 

ऐसी है इस देश की मिट्टी 

अति निराली है ये मिट्टी !

    


Rate this content
Log in

More hindi poem from Kk Khatri

Similar hindi poem from Inspirational