Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

Shyam Kunvar Bharti

Inspirational


4  

Shyam Kunvar Bharti

Inspirational


भोजपुरी पर्यावरण गीत – पेड़वा बिना

भोजपुरी पर्यावरण गीत – पेड़वा बिना

1 min 226 1 min 226

भोजपुरी पर्यावरण गीत – पेड़वा बिना

जइसे तड़पेले जल बिना मछरी ना हो

तड़पे छतिया धरती पेड़वा बिना

गावे ना गोरिया सावन बिना कजरी ना हो


सतावे बरखा रतिया गोरी सजना बिना

महल अटारी मिलवा बनवले वनवा उजारी

पेड़वा के काटी काटी धरती दिलवा दुखाई

बरसेला बदरा कबों दुनिया ना हो पेड़वा बिना

बाची कईसे धरती पेड़वा ना लउके कही


जीव जन्तु पशु पक्षी बचावे जान भऊके कही

बची ना धरती अब आदमी के जतिया ना हो 

पेड़वा बिना

चीरइ क चह चह कोइलर कुहु ना सुनाला कही

झरना क झर झर पवनवा सर सर ना दिखाला कही 

जिये खातिर मिले नाही हवा नकिया ना हो ,

पेड़वा बिना


चाही हरियाली यदी धरती पेड़वा लगावा सभे

जल जंगल जमीन मिली परती बचावा सभे

मिलीहें ठंडी ठंडी पवन पुरवईया ना हो , 

पेड़वा बिना 

जइसे तड़पेले जल बिना मछरी ना हो

तड़पे छतिया धरती पेड़वा बिना।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Shyam Kunvar Bharti

Similar hindi poem from Inspirational