Sanjita Pandey

Inspirational


3  

Sanjita Pandey

Inspirational


मुक्ति

मुक्ति

1 min 270 1 min 270

मौन होकर जब कोई 

मुक्ति की तरफ होता है।

जीवन के सारे अनुभव

तब वह समेट रहा होता हैं।


दुख दर्द की फिक्र

जब नहीं होती हैं।

किसने सही किया

किसने गलत किया

इन उलझनों में जो नहीं पड़ता

असल में वह

ईश्वर में शरणागत होता है।


किसी के दर्द से जब

मन विचलित हो जाए 

हर किसी की मदद के लिए

हाथ खुद-ब-खुद बढ़ जाए


तो नीले आसमान को देखकर

आंखों में नींर भर कर उस

परम सत्ता को धन्यवाद कर

यह महसूस करना, कि तुममें

भी अभी खुद ईश्वर रहता है।।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Sanjita Pandey

Similar hindi poem from Inspirational