Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ध्वनि
ध्वनि
★★★★★

© Suryakant Tripathi Nirala

Classics

1 Minutes   114    5


Content Ranking

अभी न होगा मेरा अन्त 

अभी-अभी ही तो आया है 

मेरे वन में मृदुल वसन्त- 

अभी न होगा मेरा अन्त 

हरे-हरे ये पात, 

डालियाँ, कलियाँ कोमल गात! 

मैं ही अपना स्वप्न-मृदुल-कर 

फेरूँगा निद्रित कलियों पर 

जगा एक प्रत्यूष मनोहर 

पुष्प-पुष्प से तन्द्रालस लालसा खींच लूँगा मैं, 

अपने नवजीवन का अमृत सहर्ष सींच दूँगा मैं, 

द्वार दिखा दूँगा फिर उनको 

है मेरे वे जहाँ अनन्त- 

अभी न होगा मेरा अन्त। 

मेरे जीवन का यह है जब प्रथम चरण, 

इसमें कहाँ मृत्यु? 

है जीवन ही जीवन 

अभी पड़ा है आगे सारा यौवन 

स्वर्ण-किरण कल्लोलों पर बहता रे, बालक-मन, 

मेरे ही अविकसित राग से 

विकसित होगा बन्धु, दिगन्त; 

अभी न होगा मेरा अन्त।

ध्वनि सूर्यकांत त्रिपाठी निराला उत्कृष्ट रचना

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..