Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Aman Shaikh

Drama Romance Thriller


4.5  

Aman Shaikh

Drama Romance Thriller


सुपरस्टार

सुपरस्टार

17 mins 345 17 mins 345

नूर - आप सोच रहे होंगे के में आप के सामने क्या लायी हूँ। जो आपकी ज़िंदगी बदल दे सोचना छोड़ दे और टीवी का वॉल्यूम बढ़ा दे खासी के लेकर केंसर तक जिस्म की सारे दर्द के लिए। ब के लिए पेश है। मैग्नेट ऑइल डिरेक्टर -कट थोड़ा फुर्ती से बोलो।तुम इस बोलो के लोगो को लगें के खासी बुखार सब गायब हो जायेगे। करे फिर से नूर- जी सर ऐड खत्म कर नूर और बंटी रिक्शा में घर जाते है।

बंटी(फोन पर) लड़की की चाहिए। लकड़ी नही हजार बार समजाया अभी फ़ोटो सेंड करो।

नूरी-मुझे भी एक्टर बनना है।

बंटी- साल की बारह फिल्मे बनती है।तुम ऐड पर फोकस करो और पैसे कमाओ।

नूरी - मुझे पैसे नही कमाने मुझे फ़िल्म चाहिए।

इस साल अगर मेने फ़िल्म नही किना और तुमने मुझे फ़िल्म नही दिलवाई न तो में घर मे बेठ जाउंगी।

बंटी - तो तुम ये ऐड नही कर रही हो। पागल हो

नूर - आहिस्ता बोलो कान के पर्दा फट्ट जायेगे मेरे।

बंटी - ठीक है।

बंटी रिक्शा से उतरता है।नूर समीर खान का बड़ा सा पोस्टर देखती है।

नूर- पूरे सहर में उसकी होल्डिंग लगी है।

बंटी - अरे इसी जगह इससे भी बड़ी होल्डिग न लगवाई न तो मेरा नाम भी बंटी नही।बस एक मौका आने दे। अच्छा मैडम आप ये ऐड कर रही है।

नूर (हाथ जोड़ के)- कर रही हूँ। चलो भाई भारती गेट तक छोड़ दो।

वही घर के बाहर चुटकी (नूर की बहन ) नूर का इंतज़ार कर रही होती है।

चुटकी - कहा रह गई थी।

नूर को चुटकी घर मे लेके जाती है। क्योंकि नूर को देखने लड़की वाले आये होते है।

लड़के की माँ - अरे वाह ये है हमारी नूर। बडा इंतज़ार कराया।

लड़का- सब्र का फल मिलता है।

लड़के की माँ- मेरे बेटे की ख्वाहिश है कि ऐसी बहूँ बहूँ लाऊ की सब जल जाए। और तुम्हे सास नही माँ समजे और मेरे पाव धोकर पिये।

लड़का - मुझे भी लड़की पसंद है।

यूसुफ- सॉरी टिल्लू ये आप के मा के पाव धो कर पी शक्ति है। और तुम्हारा ध्यान रख सके। आप समुशो पर ध्यान दे।

रात को

ज़ाहिरा- हो गयी तस्सली ये 11 मा रिश्ता है। जो आपने भगाया है।

यूसुफ - गलत ये 12 मा था।भाभी जान

ज़ाहिरा उसके पति फारूक को देखकर बोलती है।

ज़ाहिरा- या अल्लाह आप क्यों कुछ नही बोलते है।

फारूक - मेरी ज़बान कट गई है।

यूसुफ-यार तुम्हारी बेगम को समजाव की हमारी नूर टिल्लू ,बिल्लू के लिए नही बनी है।

नूर - चाचा जी चले।

ज़ाहिरा - अब बाहर पिक्चर देखने जाएंगे।

फिर नूर ,यूसुफ और चुटकी समीर खान की सलाम पिक्चर देखने जाती है।

वही पिक्चर सुरु होता है।और गीत बजता है।

लोग तो कहते है।सब ये कहते है।

बड़ा अड़ियल है।

दिल वाला है मगर अड़ियल है।

अच्छो के लिए अच्छा।

बुरो के लिए बुरा।

मैं चलु तो ऐसा लगे जैसे चेम्बर खुला।

धरक भरक जिया धरक भरक धम।

बड़ा फेला है छोरियो में तेरा चर्चा है।

तेरे आगे सभी मागते है धूल जोटा है।

धरक भरक जिया धरक भरक धम।

अच्छो के लिए अच्छा।

बुरो के लिए बुरा।

वही समीर के पापा और माँ नास्ता कर रहे होते की समीर वहा फ़ोन पे बाटे कर रहा होता है। ये देखकर दोनों बाप बेटो में अनबन हो जाती है। दर्शल समीर के पापा चाहते है कि उनकी कंपनी में समीर काम करे लेकिन समीर को तो एक्टिंग ही पसंद है।

 नूर के परिवार वाले खाना खा रहे होते है कि बंटी का फ़ोन आता है।नूर फ़ोन को रिसीव करती है।

बंटी उसे बाहर बुलाता है।

नूर - क्या हूँआ बोला तो सही की में ऐड कर रही हूँ।

बंटी - अरे पगली वो सब छोड़ इस ऐड में समीर खान है।

नूर को पेहले यकीन नही होता बाद में वो बोहोत खुश हो जाती है।

 दूसरे दिन नूर सेट पर पोहज जाती है।और वो समीर खान को अपना पहला इंट्रो के से देगी उसी की प्रेक्टिस कर रही होती है।

नूर- hii समीर खान कैसे हो ....नही कल ही मेने मेरा टॉयलेट साफ किया था।

और फिर नूर टेन्स हो जाती है। कि मोहल्ले में मेरी क्या इज़्ज़त रह जाएंगी इस टॉयलेट वाली ऐड करके।

फिर से वो प्रेक्टिस करने लगती है। और वही सचमे समीर खान होता है। और वो दोनों अपना इंट्रो देते है। फिर जब ऐड शूट कर रहे होते है तब समीर उसको कभी आँखे दिखता है तो कभी उससे छेड़ता है। ये सब देखकर डायरेक्टर गुस्सा हो जाता है।और नूर वही से मेकअप रूम में चली जाती है।

उसके बाद समीर आता है।

समीर- सॉरी मुझे नही पता था कि इस होगा।

नूर - आपको पता है में पिछले 2 घंटों से आपकी राह देख रही हूँ लेकिन आपको तो क्या ह।आप तो कभी कॉफ़ी पीने जायेगे।आप तो बड़े स्टार है।

वही आर्टिस्ट समीर को बुलाने आती है। और समीर कहता है कि 2 कॉफ़ी आर्टिस्ट मन करता है तो समीर कहता है कि ये ऐड किसी और से करवा लीजिये।और वो नूर का हाथ पकड़ कर कहता है कि इस ऐड में सिर्फ तुम ही रहोगी।

शूटिंग खत्म हो जाती है।बाद में नूर रात को घर के लिए निकलती है। लेकिन उसे कोई रिक्शा नही मिलती और फिर समीर खान अपनी गाड़ी लेकर आता है।

समीर - चलो कहा जाना है।में छोड़ देता हूं।

नूर - जी नही में चली जाउंगी।

समीर - कैसे जाओ गी।

नूर - यहा कोई रिक्शा मिल जाएगी।

समीर - आस पास पचास मिलो तक कोई रिक्शा नही है।भूत भी आ सकते है कही आप के साथ....

नूर - कोई दुर्घटना न होजाये में चलीं जाउंगी

नूर चलने लगती है।

फिर समीर गाड़ी से उतर कर उसके पास चलने लगता है।

नूर - क्या है।

समीर - में तो वाक कर रहा हूँ।

नूर - अगर में आप जैसे सुपरस्टार की गाड़ी में घर जाउंगी तो लोग क्या सोचेंगे।

समीर - कहा जाना चाहती हो।

आसमान में सितारों को उंगली दिख कर

नूर - इतनी दूर की सब मुझे देख सके कोई मुझे छू ना सके जस्ट लाइक स्टार

समीर - nice

एक रिक्शा आता है समीर उसे खड़ी कर देता है और नूर को अंडर बेथा देता है।

वही रात को नूर ये सब चुटकी को बताती है।

चुटकी- कितना हॉट है yarr...

वही ज़ाहिरा आती है।

ज़ाहिरा- पेपर लिखने समीर खान नही आएगा। तुझे पढ़ लिख के बाद होना है।

चुटकी नूर का फ़ोन लेती है और इंस्टाग्राम पर उसके फ़ोटो पर लाइक करती है। ये देख कर समीर नूर को मेसैज करता है।

अब ये दोनो रोज घंटे फ़ोन पे बाटे करते है।

क्या हो गया मुझे पता नही क्या हूँआ

 यू लगे सभी नया नया।

 देख कर तुझे मेरी निगाह का न जी भरा

 न जाने क्या से क्या बदल गया

 ख्वाब ख्वाब से लगे ख्वाहिशो को रास्ता मिला

 क्यों में तेरी तरफ खिंचा खिंचा चला गया

 दुसरो से तू लगे जुड़ा

 अंजना अंजना मन है ये मेरा

 क्या हो गया मुझे पता नही क्या हूँआ

 यू लगे सभी नया नया।

 इश्क़ के बीच रह जाना यारी ने हों निभाना

 कर याना कर आये कर याना कर याना

 अंजना अंजना मन है ये मेरा

रात को नूर यूसुफ से कहती है कि मुझे समीर ने पार्टी पे बुलाया है।यूसुफ ज़ाहिरा से कहता है कि नूर को उसकी दोस्त माहिरा की शादी है तो पार्टी रखी है।लेकिन उसकी शादी पे तो पिछले साल हम सब गए थे न ज़ाहिरा कहती है।उसकी पहली शादी टूट गई। ज़ाहिरा शोक हो जाती है कब बिचारि अरे क्या खाख बिचारि दूसरी शादी में कोई पार्टी रखता है।

ज़ाहिरा - ठीक है चुटकी को साथ लेकर जाना

चुटकी और नूर समीर के घर जाते है।

समीर नूर को छत पर लेके जाता है। वो दोनों एक दूसरे को सॉरी कहते है।

समीर - बताव सॉरी क्यों ?

नूर - इस लिए के तुम अपने सारे गेस्ट को छोड़ कर मेरे पास हो इस लिए।मेरे यूसुफ चाचा कहते है कि ट्रस्ट अपने पर ही होना चाहिए। क्योंकि हमें अपने जगह से कोई नही हिला सकता।

वो दोनों बाते खत्म करके नीचे उतरती है। वही चुटकी आलिया भट्ट से सेल्फी खीच रही होती है।

चुटकी -आप नही सोच सकती कि मैने आप की वो मूवी 5 बार देखी है। मैं एक सेल्फी ले लू

आलिया - ठीक है।

चुटकी सेल्फी लेती है। लेकिन अच्छी नही आती वो फिर से सेल्फी लेती है।

और पार्टी खत्म होती है समीर नूर और चुटकी को घर छोड़ने जाता है।गाड़ी में नूर सो जाती है।

चुटकी - बिलाल को बताउंगी न तो वो भी खुश हो...

समीर - ये बिलाल को है।

चुटकी पीछे देखती है।

चुटकी - मेरा बॉयफ्रेंड मुझे लेकर बोहोत सेंसिबल है।

समीर - होना चाहिए।

चुटकी - लेकिन बिलाल वो अशरफ से बोहोत जलता है क्यों कि वो मेरे सारे फ़ोटो पर लाइक करता है इसलिए।

समीर - ये अशरफ कोनहै

चुटकी - छोड़ो तुम्हे तो कुछ पता ही नही चलता।

चलो नूर घर आगया इतना कहकर चुटकी गाड़ी से निकल जाती है।

समीर - नूर...नूर ......

नूर की आँखे खुलती है और वो गाड़ी से बाहर निकलती है।

समीर - कल डिनर पर चलोगी।

नूर - मतलब खाने पे नही क्योंकि कल मुझे ऑडिशन देने जाना है।

इतना कह के नूर घर मे चली जाती है।और समीर शर्म से गाड़ी गुमलेट है।

दूसरे दिन नूर ऑडिशन देने जाती है। वही डीरेकट र उसके साथ बदतमीजी करता है। और नूर वह से चली जाती है कि तब उसपे समीर का फ़ोन आता है और वो कट कर देती है।फिर से समीर कोल करता है तो नूर फ़ोन उठा दे टी है।

नूर -सब के साथ हमे सोकर तो कम मिलता है। आप जैसे कि वजसे मेरी इज़्ज़त ....

समीर तुरंत अपनी गाड़ी गउमाता है। और वही जाकर उस डिरेक्टर को पीटने लगता है।ये क्लिप फेल जाती है और सब को नूर और समीर के बारे में पता चल जाता है।

रात को समीर चुटकी को फ़ोन करता है।

समीर - जाग रही हो।

चुटकी- नही जंग लड़ रही थी।

समीर - क्या ?

चुटकी - किताबो से। और आज उस डिरेक्टर को काफी मार है आपने सब बाजी के लिए।

समीर - लेकिन बाजी है कहा ?

चुटकी - अभी सोने की एक्टिंग कर रही है।

समीर - में आजाऊ वहा।

चुटकी - के ऐड़े तुम मुझे भी मरवा ओगे और खुद भी हा लेकिन वो तुम्हे कल हमारे यूसुफ चाचा के थिअटर में देखने को मिलेगी।

समीर और उसका दोस्त इमरान थिएटर में जाते है।वह नूर अलग अलग किरदार वो एकेली ही कर रही होती है। वो देख कर समीर इमरान को कहता है। की मिल गयी तेरी अगली मूवी की हिरोइन।

समीर नूर को मिलने थिएटर के मेक अप रूम में जाता है।

नूर - आईये समीर खान।

समीर - i am सॉरी

नूर - अच्छा क़ुबूल किया तुम्हारा सॉरी।

नूर चलने लगती है कि फिर से उसके आगे समीर आ जाता है।

नूर - समीर हम एक ही कहानी के दो पहलू है।

समीर - शुक्र है एक कहानी में तो है।

और नूर मुस्कुराती है।कि समीर उसके गले लग जाता} है। और वो नूर से कहता है कि इमरान उसको उसकी पहली फ़िल्म में हीरोइन के रोल में ले रहा है।

नूर - मेने कहा था ना मुझे शिफारिश से काम नही चाहिए।

समीर - i swer मेने कोई सिफारिश नही की है।

नूर - ठीक है चाचा से पूछ कर कहूंगी हर काम की शुरुआत में उनसे पूछ करती हूँ।

  नूर वहा से चली जाती है।

दूसरे दिन ज़ाहिरा चुटकी को धुंध ती है। वही दरवाजा खटखटा ने की आवाज सुनकर ज़ाहिरा दरवाजा खोलने जाती है।

फिरोज- अरे चुटकी ने बताया के आपके घर समीर खान आरहे है।

चुटकी नूर के कमरे में छुपी होती है।

ज़ाहिरा - नूर को बोल पहले बारात होती है फिर बात वही कुछ ही देर में समीर खान की गाड़ी भारती नगर में आती है कि गाड़ी को देख सारे लोग गाड़ी के पीछे लग जाते है।समीर सबके साथ सेल्फी लेकर अंदर चला जाता है।

इमरान यूसुफ को उसकी मूवी की कहानी सुनता है।और नूर को फ़िल्म करने की इज़ाज़त भी देता है।

और वो तीनो फ़िल्म की लोकेशन चेक करने जाते है वही समीर नूर के साथ मस्ती करता है।

जागने लगी राते और ख्यालो से बाते

ख्वाब है नए नए से..खुली आँखों से देखता हूं

हर घड़ी एक पल में तेरे बारे में सोचता हूं

जो कभी न हूँआ जो कभी ना किया है

वो सभी हो रहा है इन दिनों....

तेरे साथ चला है मेरे नाम लगा है इन दिनों

जो कभी न हूँआ जो कभी ना किया है

वो सभी हो रहा है इन दिनों....

तेरे साथ चला है मेरे नाम लगा है इन दिनों

दूसरे दिन रिक्शा में बैठ कर नूर फ़िल्म के सेट पर पोहचती है।

गाइड -मैडम आप की वेनिटी वह है।

बंटी - वेनिटी ....देखा आखिर आज बन ही गयी न हीरोइन।

नूर यूसुफ को फोन करती है।

नूर ( फोन पर ) - पता नही लेकिन अजीब सा डर लग रहा है। कब से सपना देखना और जब वो पूरा होने जा रहा होता है तो इस लगता है कि नही अभी में तैयार नही हूँ बस एक मिनट और

यूसुफ (फोन पर)- लुप्त उठा इस पल का डर लगने दो

फिर वो तैयार होकर वेनिटी में राह देख रही होती है

और सो जाती है।

4 घंटे बाद

इमरान दबे पांव वेनिटी में आता है।और वो नोक करता है और नूर जग जाती है।

नूर - इमरान अब तक समीर नही आया पिछले 4 घंटो से में तुम्हारी तरह मेरी भी पहली फ़िल्म है।

इमरान वौइस् क्लिप प्ले करता है।

इमरान मेरे दोस्त में जानता हूं कि में जो कर रहा हूँ

वो गलत है लेकिन में येभी जनता हूँ की ये बात तेरे

अलावा और कोई नही समजेगा जब से अक्ल आयी है में हीरो बनना चाहता था हॉलीवुड का एक हफ्ते पहले ही मेरी एक हॉलीवुड फिल्म कंफम हूँई है।लेकिन तब तक तेरी फ़िल्म की डेट्स लॉक होगयी थी यार मेने बोहोत कोशिश की इस ख्वाब को दोस्ती के लिए छोड़ दु लेकिन में अच्छा दोस्त नही हूँ। तू बोहोत अच्छा है मुझे माफ़ कर देना ये तेरी और नूर की पहली फ़िल्म है मुझपे बोहोत प्रेसर था। लेकिन में वापस आऊंगा तो जरूर ये फ़िल्म करुगा प्यार करता हूं में नूर से उसका दिल टूट जाएगा। उसके क्लोस उप लेने के बाद उसको ये सच बताना मेरी हिम्मत नही हो रही थी।

  और समीर जिस प्लान में बैठा होता है। वो चलने लगता है।

INTERWAL

ये अदाएं नज़ा है ज़माना हैरान

कोई दीवाना है कोई जान से गया

साहिर ना आँखे साहिर ना बाते

ना मेरे जैसा है ना कोई हूँआ

हय नूरी हाय नूरी है सारी दुनिया बेवफा

रात भर नीड न आये

 जागते ख्वाब दिखाए

  हाय नूरी हाय नूरी न तेरी ना मेरी

डिरेक्टर - कल की नूर और आज की नूर बड़ा फर्क है।

इमरान - क्यों नही कल नूर से सब दूर था।और आज कोई नही she is a superstar

 हॉस्पिटल में समीर की मा की हालत बोहोत बिगड़ जाती है।और समीर के पिता से कहती है कि समीर को मेरी इस हालत के बारे में न पता चले।

  हॉलीवुड ने समीर सायद समीर को अपना लिया था।आज समीर को बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड मिलता है।मुम्बई में बैठी नूर टीवी में समीर को देखती है। फिर समीर मुम्बई आता है तो उसे पता चल ता है कि उसकी माँ की आज सुबह मोत हो गयी है और सब कब्रस्तान गए है।ये सुन कर समीर भी वह जाता हैं। लेकिन वो लाते हो जाता है।उसके पिता कहते है कि तुम्हारी माँ ने तुमको बता ने से मना किया था।

 इधर नूर 1 साल बाद अपने घर आयी होती है।अब वो ही घर का खर्चा सब देती है नूर ने चुटकी को बाहर पढ़ने के लिए भेज है ज़ाहिरा उसके रिश्ते की बात करती है तो नूर कहती है वो जिश लड़के साथ शादी करना चाहती होगी उसीसे होगी। और नूर चली जाती है।

  समीर अमेरिका में शुटिंग कर रहा होता है। कि वही आतंकवादी लोग आते है और वो कहते हैबकी इंडिया वाले बाहर निकलो।समीर तुरंत वेनिटी वैन में चला जाता है।दूसरे दिन वो जब भारत आता है तो मीडिया वाले उससे सवाल करते है।

भारत आकर समीर तैयार हो कर शानदार स्टूडियो में जाता है।वो स्टूडियो इमरान का होता है।रिसेप्शन में जाकर कहता हैं। मुझे इमरान से मिलना है।वो लड़की इमरान को फोन करती है।सर् mr. समीर खान आये है।ये सुन कर इमरान को वो सब याद आता है कि वो नूर को और मुझे छोड़कर चला गया था।इमरान कहता है कि में किसी डिरेक्टर के साथ बिजी हूँ।लेकिन वहा आफिस में कोई नही होता है।लेकिन समीर अंदर जाता है।और वो इमरान से कहता है कि तूने जुठ बोला इमरान भी कहता है कि जब हमें तुम्हारी जरूरत थी तो कहा गया था निकाल दिया ने अमेरिका वालो ने जब लाट पड़ी तो वादा याद आता है।ये सुनकर समीर चला जाता हैं।

दूसरे दिन इमरान के स्टूडियो नूर और बंटी जाते है।बंटी कहता है कि समीर आज भी इन बॉलीवुड की दुनिया मे फेमश है सब डिरेक्टर उसके साथ काम करने के लिए तैयार है।इमरान कहता है कि मुझे उसकी कोई जरूरत नही है। नही मेरे काम मे और नही मेरी ज़िंदगी मे।नूर इमरान को कहती है कि में समीर के साथ ये फ़िल्म करूँगी अगर तुम्हें कोई एतराज हो तो फ़िल्म की स्क्रिप्ट मुझे देदो। और नूर वहा से चली जाती है।वही चुटकी को पता चलता है कि नूर ने समीर के साथ फिल्म साइन की है। ये सुन कर चुटकी नूर को फ़ोन करती है।नूर तुम पागल हो गयी हो। तुम समीर के साथ फिल्म याद करो दी वो आपको छोड़ कर चला गया था।नूर चुटकी से कहती है कि तुम अभी छोटी हो। इतना कहने के बाद नूर फोन कट कर देती है। दूसरे दिन फ़िल्म की शूटिंग होती है नूर अपना शूटिंग करती होती है लेकिन समीर किसीका भी फ़ोन नही उठाता क्यों कि वो सोया होता है।फिर उसके पापा उसके कमरे में जाते है और उसे जगाते है वो जल्दी सेट पर चला जाता है।वहा सेट पर पोहचतेहि वो शूटिंग करता है। लेकिन समीर उसकी आँखों मे आँखे दाल कर कुछ बोलहि नही सकता।और जैसे तैसे ये सिन शूट हो जाता है।जाते जाते नैना समीर के सामने इमरान को कहती है कि कल से ये समीर खान लेट आये तो रिप्लेस हिम इतना कहकर चली जाती है।

 दूसरे दिन समीर न्यूज़ पेपर में पढ़ता है कि उसको फ़िल्म से रिप्लेस किया गया है।ये देखकर वो नूर को मिलने के लिए उसके घर जाता है।लेकिन वहा सेक्युरिटी नही जाने देती नूर ये सब को देखकर कहती है कि आने दो उसे अंडर समीर उसपे चिल्लाता है कि तुमने मुझे बताये बिना कैसे रिजेक्ट किया किस ऑथोरिटी से।नूर समीर को जवाब देती है कि पहले एक्टिंग करना तो सिखलो पता है पहले लोग पहचान सेट करते है फिर उनसे मोह्हबत करते है और एक दिन छोड़ कर चले जाते है।

इतना कहने के बाद नूर चलती है कि समीर उसको कहता है कि हमारी बात अभी खत्म नही हूँई।कबकी खत्म होगयी और तुम भी हॉलीवुड जाना मेरा ख्वाब था लेकिन दोस्ती के लिए ख्वाब छोड़ ने की पोसिस बोहोत की लेकिन कर न सका इस ही वॉइस मैसेज भेज था। ना हम इस तरह कभी नही भागते आँखे उठाकर देखो समीर खान आज जमीन के कोने कोने पर तुम्हे नूर मलिक सर् उठाये खड़ी दिखाई देंगी। जो सबके मन को भाये और कहि समाना पाए उसी ही को कहते है।सुपरस्टार कह के नूर चली जाती है।

 ऐसा नहीं कोई है गलत फहमी जो बनी है।

खोया अपना पन ऐसी राह चुनी है।

 बरसती है निगाहै मेरी बरसती है तकदीर।  ये कैसे में बताऊ की आँखे मेरी थक ती नही तेरे बिन।

के ख्वाहिशो ख्वाबो की बारिसे की कहा गयी धूप

मेरे हिस्से की।

सपने दिखाए एक ही कदम से सो सो पछताए।

सच था या गलत फहमी और ख्वाब नही जुड़ पाते।

बरसती है निगाहै मेरी बरसती है तकदीर।  ये कैसे मैं बताऊँ की आँखें मेरी थक ती नहीं तेरे बिन।

1 साल बाद

 नूर की फिल्म(जिश्मे समीर को रिप्लेस किया था)सुपरहिट हूँई थी।और आज उसे बेस्ट बॉलीवुड की एक्टर्स का अवॉर्ड मिलने वाला होता है।नूर जाने के लिए तैयार होती है कि रास्ते मे उसकी गाड़ी खराब हो जाती है।और वहा पोग्राम शुरू हो चुका था।जैसे ही उसका नाम स्टेज पर लिया गया लेकिन वो नही पोहचती वो अपने मोबाइल में लाइव पोग्राम देखती है। और दूसरी गाड़ी में चलीं जाती है। वह स्टेज पर नूर का अवॉर्ड लेने के लिए समीर चला जाता है कि नूर मेरी हमसफर है।ये अवॉर्ड में लू या वो ले एक ही तो है।वो आज पता नही क्यों नही आई।ये सब सुनकर नूर गाड़ी के कांच पर अपना सिर पटकती है।और कहती है समीर खान हम कभी नही एक हो सकते आज तुमने मेरी कामयाबी के बीच आये हो नही छोडूंगी तुम्हे।

गाड़ी जहा अवॉर्ड फंक्शन होता है वही पोहच जाती है।नूर अंदर जाती है सब नूर को खराब हालत में देखते है। समीर उसको देखके आगे जाता है।

 नूर (रोते हूँए)- क्या अपनी ज़िंदगी के साथ करता है कोई ऐसा।

समीर -रोज जीते है रोज मरते है।

नूर - सबसे रोशन सितारा बनना यही कहा था ना तुमने लो बन गयी में सितारा।मगर आशमा खो गया समीर।

समीर - आशमा माफ कर देगा।उसका दिल बोहोत बड़ा है।नूर क्या मेरे साथ डिनर पर चलोगी।

नूर -अगर मेरा मुड़ हूँआ तो।

वो दोनों एक दूसरे के गले लग जाते है।सब लोग ताली बजाते है।

ये राहे नही आसान रास्तो में तूफान

यू तो दिल को एक बनाया।

समजाया, बहलाया,ललचाया

धमकाया दिल तो दिल है बाज न आया।

 कभी रोये कभी हसे कहता है।

 बेकरार इश्क़ में तैरते चल दिये। 

 कोई लम्हा थम जाए कोई दिल ना करे

 अपनी ही बोली बोले.....

बेकरार इश्क़ में तैरते चल दिये।...(2)


Rate this content
Log in

More hindi story from Aman Shaikh

Similar hindi story from Drama