Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

सपने - जान की बाज़ी

सपने - जान की बाज़ी

1 min 788 1 min 788

एक लड़का था । कॉलेज के अंतिम साल में परिणाम आया कि उसका तृतीय क्रमान्क् है । वो बहुत खुश था, उसके परिवार और दोस्तों में ख़ुशी की लहर छायी थी । मगर फिर पता चला कि इसके परिणाम में भूल थी और वह बहुत पीछे था । वो हताश हो गया कि आगे क्या होगा । वही से उसके सपने की शुरुआत हुई । अगले साल और ऊँची डिग्री में उसने प्रथम स्थान हासिल किया । उस एक भूल ने उसके मरे हुए सपने को ज़िंदा किया जिसके लिए वो अब मरने को भी तैयार हो गया ।


Rate this content
Log in

More hindi story from abizar rangwala

Similar hindi story from Drama