Click here for New Arrivals! Titles you should read this August.
Click here for New Arrivals! Titles you should read this August.

vinod mohabe

Romance


4  

vinod mohabe

Romance


“ यादें ”

“ यादें ”

1 min 222 1 min 222

हम भी तो तुम्हें चाहते थे ऐसे

जैसे मरने वाला कोई जिंदगी चाहता हो जैसे


कही जमाने बाद हिचकी आई है ऐसे

जैसे पुराने यादों को कोई याद करता हो जैसे


कुछ दर्दे दिल छुपायें है ऐसे

जैसे किताबों में कोई फुल छुपाया हो जैसे 


मुस्कुरा कर, रुला कर छोड दिया विरानों में ऐसे

जैसे भीड में अकेला कोई राह देखता हो जैसे 


तडपती विरह में जलती है छाती ऐसे

जैसे मोहब्बत करके कोई गुनाह किया हो जैसे


तरन्नुम में भी खामोश है लब ऐसे

जैसे मिली महफिल शमशान से कोई घर ताकता हो जैसे


तुम्हे पाने दिल कि धडकन उछल रही थी ऐसे

जैसे बरसात में नाचता हो कोई मदहोश होकर जैसे     


गलत फहमियों से पैदा हुई थी दूरिया ऐसे

जैसे रिक्त स्थानों में कोई रेख खींच दे जैसे


देखकर मेरी हंसी हैरान है जमाना ऐसे 

जैसे कांटो में भी कोई रहकर मुस्कुराता हो जैसे


मोहब्बत करके हाल मत पूछ ऐसे

जैसे नमक छिड़क कर कोई मरहम लगाता हो जैसे।


Rate this content
Log in

More hindi poem from vinod mohabe

Similar hindi poem from Romance