Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Neerupama Trivedi

Inspirational

4.7  

Neerupama Trivedi

Inspirational

शिक्षक

शिक्षक

1 min
370


जैसे किसान लहलहाती फसल देख हरषाता,

 कैसे दिन-रात श्रम से सिंचित कर उन्हें पाता,

 शिक्षक ज्ञान सुधा का अमृत पान कराता ,

 संस्कृति संपदा में नित स्वाभिमान जगाता।


 जैसे दीपक पथ को आलोकित कर इठलाता,

 कैसे हवा से संघर्ष कर स्वयं जल जाता ,

नैतिक मूल्य की अमूल्य धरोहर सहेजता,

 हर अज्ञान तिमिर ज्ञानदीप जगमगाता ।


 जैसे चित्रकार भावों का चित्रांकन कर सुख पाता,

 कैसे कोरे कागज पर तूलिका से रंग भर जाता ,

जैसे कुम्हार गीली मिट्टी से बर्तन बनाता ,

 शिक्षक जीवन का नव अर्थ सिखलाता।


 समर्थ रामदास बिन शिवाजी,

 चाणक्य बिन चंद्रगुप्त,

 द्रोणाचार्य बिन अर्जुन,

 इतिहास चरित्र गढ़ता कौन ?


शिक्षक ना होते यदि जग में ,

ज्ञानशलाका थमाता कौन ?

गुरु पद अमिय अम्बु बिन सर में ,

राष्ट्रभक्ति के अंबुज खिलाता कौन?



Rate this content
Log in