Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

mamta kashyap

Abstract


4  

mamta kashyap

Abstract


मुझे एक कहानी लिखनी है

मुझे एक कहानी लिखनी है

1 min 362 1 min 362

कबड्डी खेलते उन बच्चों के

खिलखिलाहटों को सहेजना है

और उस बुढ़िया के झुर्रियों से

बटोरनी है यादें....


माँ की लोरी को पकड़ना है

तकिये के नीचे रखने के लिए,

और पिया की बाहों का झूला

बनाना है सिमट जाने के लिए....


चादर की सिलवटों में

दुबकी अंगड़ाई ढूंढनी है,

और रसोई से

बासमती की महक...


पेड़ पर बैठी मैना की

चहक चाहिए,

और सूरज से थोड़ी

नरम सी गर्मी...


सर्दी की रातों में मुँह से निकली

भाप को कैद करना है

और गुब्बारों से

छीनना है चटक रंग...


रात से उधार कुछ तारे चाहिए

और अपनी आँखों की

ठंडक के लिए सुबह से ओस...

हवा से मांगनी है गुलाब की खुशबू,

और बारिश से गुलमोहर का रंग...


धूल से अभ्रक के कुछ कण मांगने हैं

और पतझड से एक पीला पत्ता...

बच्चो के आंसू में छुपी

माँ की एक कसक चाहिए

और गाय के दूध की मिठास..


वक़्त से कुछ पन्ने भी उधार मांगने हैं

क्योंकि मुझे एक कहानी लिखनी है...।


Rate this content
Log in

More hindi poem from mamta kashyap

Similar hindi poem from Abstract