Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

anubhuti jaiswal

Abstract

4.4  

anubhuti jaiswal

Abstract

मैं नया गीत गाऊंगी

मैं नया गीत गाऊंगी

1 min
257


मनुष्य जब

दुर्गम यात्रा सुगम बनाने का प्रयास करने लगेगा

औरौं से अलग बनने का साहस करने लगेगा

तब-तब यह कविता उसे सुनाने आऊंगी

मैं नया गीत गाऊंगी ।


घृणा के स्थान पर जब प्रेममार्ग बनाएगा

अपने हृदय से ईर्ष्या को हटाएगा

तब मैं उसके पथ पर पुष्प लिए प्रस्तुत हो जाऊंगी

मैं नया गीत गाऊंगी ।


जीवन के जंग में जब मनुष्य थक जाएगा

हौंसला उसका ऊंचा उठने का थम जाएगा

तब-तब यह कविता उसे सुनाने आऊंगी

मैं नया गीत गाऊंगी ।

क्या पता यह कविता पसंद आएगी ?

क्या यह कोई छाप छोड़ जाएगी ?

फिर भी सुर, लय, ताल में सबको यह सुनाऊंगी

मैं नया गीत गाऊंगी ।


Rate this content
Log in