Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

SUMIT GUPTA

Abstract


4  

SUMIT GUPTA

Abstract


मानसिक आजादी

मानसिक आजादी

1 min 35 1 min 35

आज़ादी के नाम पर सोचो,

हम क्या - क्या करते जायेंगे ?


कभी सही तो कभी ग़लत हम,

दूसरों को बतलायेंगे,


अपनी बारी आने पर हम,

आदर्शों को अपनायेगें ?


दोहरी मानसिकता का अंत ही करके,

राष्ट्र को श्रेष्ठ बना पायेंगे।


Rate this content
Log in

More hindi poem from SUMIT GUPTA

Similar hindi poem from Abstract