Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Vishal Maurya

Abstract

4.3  

Vishal Maurya

Abstract

कब्र के फूल

कब्र के फूल

1 min
196


कब्रों पे उगे रहे जब फूलों को देखा ,

लगा जैसे मौत में जिंदगी को देखा ।


बंद हो गयी जब खिलखिलाती बारिशें ,

मैंने तब जा के उसके आंसुओं को देखा ।


मंजिले जब भी रूठने लगी रास्तों से ,

दिमाग को हर रोज दिल को मनाते देखा ।


बदल गया जब उसका गुस्सा रोने में ,

तब मैंने जा के उसके दिल को देखा ।


यूँ ही नही छु रहा आज बुलंदियों को , 

तुम्हें पता नहीं मैंने कल क्या-क्या देखा ।



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract