Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Er.Saurabh Pandey

Abstract

4  

Er.Saurabh Pandey

Abstract

जवान

जवान

1 min
46


दिन हो रात देते है, देश का साथ 

जिंदगी के हर मोड़ पर,

खड़े है हम आपके साथ।


हर रास्ते संकट हो चाहें,

फूल बिछाना हम जानते है।


फर्ज क्या है, हमसे पूँछो

क्योंकि देश पर जान देना,

हम सब जानते है।


धरती माँ अगर आ जाए संकट,

दुश्मनों का सिर भी

काटना हम जानते है।


पल चाहे जो भी हो,

काँटे रास्ते पर भी

चलना हम जानते है।


हम सोये यह न रोये,

धरती माँ की सेवा,

करना हम जानते है।


Rate this content
Log in